Junior Doctors Strike : बंगाल बवाल के बाद पूरे देश में डॉक्टरों की हड़ताल

0

पश्चिम बंगाल (West Bengal)  से शुरू हुआ बवाल पूरे देश में फ़ैल गया है। मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) और डॉक्‍टरों (Junior Doctors Strike In India ) के बीच हुए विवाद की आंच पूरे देश तक पहुंच गई है। आज पूरे देश में अधिकांश निजी और सरकारी डॉक्‍टर पश्चिम बंगाल में प्रदर्शन कर रहे अपने साथियों के समर्थन में हड़ताल पर हैं।

दिल्‍ली के सफदरजंग (Safdarjung ) अस्‍पताल के रेजीडेंट डॉक्‍टर से लेकर कई अन्य डॉक्टरों ने भी आज हड़ताल का ऐलान ( Junior Doctors Strike In India ) कर दिया है। महाराष्‍ट्र के भी रेजीडेंट डॉक्‍टर शाम 5 बजे तक सांकेतिक हड़ताल (Strike) पर रहेंगे। इसी के साथ मध्य प्रदेश, राजस्थान और अन्य कई राज्यों में भी जूनियर डॉक्टरों ने हड़ताल का ऐलान कर दिया है।

सीएम ममता की तानाशाही से परेशान डॉक्टरों ने दिया इस्तीफा!

जानकरी के अनुसार, डॉक्टर कोलकाता में एनआरएस मेडिकल कॉलेज (Kolkata Doctors Strike) और अस्पताल में एक मरीज की मौत के बाद भीड़ द्वारा अपने दो सहकर्मियों पर हमले के मद्देनजर प्रदर्शन कर रहे हैं। प्रदर्शनकारियों का कहना है कि डॉक्टरों की पिटाई के बाद भी पुलिस ने उनकी बात नहीं सुनी और सरकार ने भी तानाशाही दिखाई।

UP की कानून-व्यवस्था और जंगल राज एक जैसा

हड़ताल की जानकारी मिलने के बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने मरीजों और उनके साथ रहने वालों से संयम बरतने का अनुरोध किया और घटना की निंदा की। उनका कहना है कि वह सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों के समक्ष डॉक्टरों की सुरक्षा का मुद्दा उठाऐंगे। कई निजी एवं सरकारी अस्पतालों के डॉक्टरों ने शुक्रवार को काम का बहिष्कार करने का फैसला किया है जिससे सेवाओं के प्रभावित होने का अंदेशा है।

रायबरेली में कार्यकर्ताओं पर भड़की प्रियंका गाँधी

मुंबई के सायन अस्‍पताल के एमएआरडी के अध्‍यक्ष प्रशांत चौधरी का कहना है कि पश्चिम बंगाल में डॉक्‍टरों के साथ हुई मारपीट की घटना ‘लॉ एंड ऑर्डर’ का मुद्दा है।  इसलिए हम इस घटना के विरोध में आज साइलेंट प्रोटेस्‍ट करेंगे। इतना ही नहीं भारतीय चिकित्सा संघ (आईएमए) ने घटना के खिलाफ तथा हड़ताली डॉक्टरों के साथ एकजुटता दिखाने के लिए शुक्रवार को ‘अखिल भारतीय विरोध दिवस’ घोषित किया है।

Share.