website counter widget

JNU के बाद अब संसद में तांडव करने चले छात्र

0

नई दिल्ली: जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय(Jawaharlal Nehru University) के छात्रों का फीस बढ़ोतरी, छात्रावास शुल्क वृद्धि और उच्च शिक्षा को प्रभावित करने वाले अन्य मुद्दों के विरोध में सोमवार को संसद तक निकाले जाने वाला मार्च शुरू हो गया। छात्रों के विरोध को उग्र रूप लेता देख पुलिस ने संसद भवन(Parliament House) के आसपास धारा 144 लागू कर दी है. छात्रों के प्रदर्शन को काबू में करने के लिए विश्वविद्यालय के बाहर पुलिस की 10 कंपनियां तैनात की गई हैं और हर कंपनी में 70 से 80 पुलिसकर्मी हैं. इस बीच मानव संसाधन मंत्रालय (Ministry of Human Resources) ने तीन सदस्यीय समिति का गठन किया है, जो जेएनयू की सामान्य कार्यप्रणाली बहाल करने के तरीकों की सिफारिश करेगी. जेएनयू के लिए बनाई गई यह समिति छात्रों और प्रशासन से बातचीत और सभी समस्याओं के समाधान को लेकर सिफारिश करेगी. आपको बता दे की आज से ही संसद का शीतकालीन सत्र भी शुरू हुआ है।

Video viral: सिंघम के बाद ये लड़की डांस के साथ संभाल रही ट्रैफिक

इससे पहले जेएनयूएसयू ने कहा, ‘ऐसे समय में जब देश में शुल्क वृद्धि बहुत अधिक पैमाने पर हो रही है, तो समग्र शिक्षा के लिए छात्र आगे आये है। हम संसद के शीतकालीन सत्र (Winter Session of Parliament) के पहले दिन जेएनयू से संसद तक निकाले जाने वाले मार्च में शामिल होने के लिए सभी छात्रों को आमंत्रित करते हैं। छात्र संघ ने दिल्ली के बाहर के छात्रों से 18 नवम्बर को आंदोलन आयोजित करने की अपील की है. वही जेएनयू छात्रों के संसद मार्च को लेकर दिल्ली पुलिस के अधिकारियों ने कहा कि छात्रों को पार्लियामेंट तक नहीं जाने दिया जायेगा। जेएनयू के कुलपति जगदीश कुमार(JNU Vice Chancellor Jagdish Kumar) ने विरोध कर रहे छात्रों से रविवार को अपील की कि वह अपनी कक्षाओं में लौट आएं, क्योंकि परीक्षाएं नजदीक हैं।

इमरान सरकार छुट्टी पर, पाकिस्तान में तख्तापलट!

वहीं, विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर जारी एक वीडियो संदेश में उन्होंने कहा कि उन्हें चिंतित अभिभावकों और छात्रों के ई-मेल आ रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘यदि हम अभी भी हड़ताल पर अड़े रहे तो इससे हजारों छात्रों के भविष्य पर असर होगा।’ उन्होंने कहा, ‘कल (सोमवार) से एक नया हफ्ता शुरू होगा और मैं छात्रों से अनुरोध करता हूं कि आप कक्षाओं में वापस आइए और अपने शोध कार्यों को आगे बढ़ाइए। 12 दिसंबर से सेमेस्टर परीक्षाएं शुरू होंगी और अगर आप कक्षाओं में नहीं जाएंगे तो इससे आपके भविष्य के लक्ष्य प्रभावित होंगे।

बाबा रामदेव ने किया देश के दलितों और मुसलमानों का अपमान

-Mradul tripathi

ट्रेंडिंग न्यूज़
[yottie id="3"]
Share.