दिल्ली में दंगाईयों की भीड़ ने Jk 24X7 न्यूज़ चैनल के रिपोर्टर आकाश को मारी गोली

0

इस  वक़्त  की बड़ी खबर आ रहीं है दिल्ली से जहाँ दिल्ली (Delhi) में लगातार उद्घोष कर रही दंगाईयों की भीड़ ने JK 24X7 न्यूज़ चैनल के रिपोर्टर (JK 247 Reporter Injured) आकाश को गोली मार दी  । आकाश (Akash Reporter) को गंभीर चोट आई है जहाँ उन्हें तुरंत GTB  अस्पताल में भर्ती कराया गया है बता दें दंगों की आकाश कवरेज कर रहे थे तभी उन्हें अचानक गोली लग गई  ।अब ये हिंसा कितनी बढ़ती है क्यों कि रिपोर्टर (Delhi Violence)  को गोली लगने के बाद ये मामला और तूल पकड़ सकता है |

दिल्ली में CAA को लेकर हिंसक प्रदर्शन में कांस्टेबल की मौत

बता दें (JK 247 Reporter Injured)  उत्तर पूर्वी दिल्ली (Delhi Fire) के जाफराबाद, मौजपुर और चांदबाग में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) (CAA) को लेकर झड़प में दिल्ली पुलिस के एक हेड कॉन्‍स्टेबल की मौत हो गई जबकि पुलिस उपायुक्त घायल हो गए। प्रदर्शनकारियों ने घरों, दुकानों और वाहनों को आग लगा दी और एक दूसरे पर पथराव भी किया। इससे चलके डीएमआरसी ने प्रदर्शनों के चलते जाफराबाद और मौजपुर-बाबरपुर मेट्रो स्टेशनों को बंद कर दिया। वहीँ बता दें पूर्वी दिल्ली (Delhi Violence Donald Trump) के चांदबाग में सोमवार दोपहर हिंसक प्रदर्शन को नियंत्रित करने के लिए पुलिस बल के साथ पहुंचे शाहदरा के पुलिस उपायुक्त (डीसीपी) अमित शर्मा (Delhi Amit Sharma) गंभीर रूप से जख्मी हो गए।

CAA के विरोध में अनुराग कश्यप ने खोया आपा, कहा ‘यह गंवारों और गुंडों की सरकार है’

वहीं अपना फर्ज निभाते (JK 247 Reporter Injured)  हुए उन्हें बचाने के प्रयास में ही गोकलपुर के एसीपी के रीडर रतन लाल (Ratanlal Delhi) शहीद हो गए। बताया जा रहा है कि बुखार होने के बावजूद वह ड्यूटी कर रहे थे।   हवलदार रतनलाल (42) परिवार में कमाने वाले इकलौते थे। वे पत्नी और तीन बच्चों के साथ बुराड़ी में रहते थे। उनके शहीद होने की खबर के बाद रिश्तेदारों का उनके घर पहुंचना शुरू हो गया। उनके घर में मातम का माहौल है।रतनलाल वर्ष 1998 में दिल्ली (Delhi Violence)  पुलिस में सिपाही भर्ती हुए थे। फिलहाल वे एसीपी गोकलपुरी ऑफिस में तैनात थे। सोमवार को वे ड्यूटी पर थे तो पत्नी ने हालचाल जानने के लिए फोन किया था। पत्नी को टीवी से पता लगा था कि रतनलाल के साथ अनहोनी हो गई है। तभी से वे फोन कर रही थीं। फोन किसी ने नहीं उठाया। कुछ देर में पता चल गया कि रतनलाल शहीद (Ratanlal) हो गए हैं। यह खबर सुनकर पूनम बेहोश हो गई थीं।

क्या है अनुच्छेद 131 जिसके तहत केरल सरकार ने CAA के खिलाफ सुप्रीम का रुख किया

vagisha Pandey

Share.