website counter widget

image1

image2

image3

image4

image5

image6

image7

image8

image9

image10

image11

image12

image13

image14

image15

image16

image17

image18

सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की जिओ की याचिका

1

सुप्रीम कोर्ट ने रिलांयस जिओ को बड़ा झटका देते हुए भारती एयरटेल  और वोडाफोन आइडिया  के खिलाफ दायर जिओ की  याचिका को खारिज कर दिया| दरअसल, मुकेश अंबानी की कंपनी ने पुरानी टेलिकॉम कंपनियों के बीच गुटबंदी का आरोप लगाते हुए इस मामले की जांच के लिए अपील की थी, लेकिन कोर्ट ने उनकी यह मांग अस्वीकार कर दी|

जानकारी के अनुसार, पहले सीसीआई ने यह याचिका बॉम्बे हाईकोर्ट के एक आदेश के खिलाफ दाखिल की थी, लेकिन बॉम्बे हाईकोर्ट ने यह जिओ की याचिका  खारिज कर दी थी| कोर्ट की ओर से कहा गया था कि टेलिकॉम सेक्टर में पहले से एक रेग्युलेटर ’टेलिकॉम रेग्युलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया (ट्राई)’ है. इसलिए इसकी जांच सीसीआई द्वारा नहीं की जा सकती है|

दरअसल, जिओ ने सीसीआई को शिकायत की थी कि वोडाफोन इंडिया और आइडिया का अब मर्जर हो चुका है| पुरानी टेलिकॉम कंपनियां उसे इंटरकनेक्शन पॉइंट्स नहीं दे रही हैं, जो प्रतिस्पर्धा से जुड़े नियमों का उल्लंघन है| बॉम्बे हाईकोर्ट के आदेश के बाद रिलांयस जिओ और सीसीआई ने जनवरी में इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी, लेकिन अब सुप्रीम कोर्ट द्वारा भी जिओ की याचिका ख़ारिज कर दी गई|

याचिका खारिज करते समय सुनवाई कर रही बेंच ने कहा, “हम बॉम्बे हाईकोर्ट के आदेश को बरकरार रखते हैं| यह मामला सीसीआई के अधिकार क्षेत्र में तभी आ सकता है, जब ट्राई एक्ट के तहत इस मामले की जांच पूरी हो गई हो| सीसीआई को जांच बंद करने के बॉम्बे हाईकोर्ट के अंतिम निर्देश को दखलंदाजी नहीं माना जा सकता क्योंकि यह सीसीआई द्वारा बिना सोचे-समझे की गई कार्रवाई थी|”

सुप्रीम कोर्ट ने रिलायंस कम्युनिकेशंस को दिया बड़ा झटका

नौसेना ने की रिलायंस पर दंडात्मक कार्रवाई

रिकॉर्ड हाई पर पहुंचे रिलायंस के शेयर

Loading...
ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.