पर्यटकों के स्वागत को तैयार “जन्नत” 67 दिन पुरानी पाबंदी हटी

0

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर (Jammu kashmir) में हालात तेजी से सामान्य हो रहे हैं।राज्य प्रशासन ने सैलानियों के घाटी छोड़ने और वहां न जाने संबंधी अडवाइजरी को करीब 2 महीने बाद वापस ले लिया है।

भारत का ग्रोथ रेट घटकर हुआ 5.8 फीसदी

इसका मतलब है कि अब पर्यटक वापस घाटी में घूमने जा सकेंगे (Jammu Kashmir Travel Advisory)। जानकारी के अनुसार जम्मू-कश्मीर को अनुच्छेद 370 के तहत अस्थायी तौर पर मिले विशेष दर्जे को खत्म किए जाने से 3 दिन पहले 2 अगस्त को अडवाइजरी जारी कर पर्यटकों से जल्द से जल्द घाटी से लौटने को कहा गया था। तब आतंकी खतरे को कारण बताया गया था।

राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने सोमवार को सलाहकारों और मुख्य सचिव के साथ जम्मू और कश्मीर के हालात पर समीक्षा बैठक की थी. इस दौरान उन्होंने इस एडवाइज़री को वापस लेने की बात कही थी और 10 अक्टूबर से आदेश लागू होने की बात कही थी.

सबसे ज्यादा उम्र में नोबेल पुरस्कार जीतने वाले पहले वैज्ञानिक

आज से कश्मीर में पर्यटकों का आना जाना तो शुरू हो गया है लेकिन अभी भी घाटी में कुछ ऐसी दिक्कतें हैं जिनका सामना करना पड़ सकता है (Jammu Kashmir Travel Advisory). जैसी कि अभी भी घाटी में मोबाइल फोन, इंटरनेट की सुविधा पूरी तरह से शुरू नहीं हुई है. चप्पे-चप्पे पर सुरक्षाबल तैनात हैं, कई जगह लैंडलाइन की सुविधा भी शुरू हो चुकी है.


जानकारी के अनुसार घाटी में 9 अक्टूबर से कॉलेज, यूनिवर्सिटी खोल दिए गए है।. इससे पहले सभी स्कूलों को भी खोलने का आदेश जारी हो गया था, लेकिन अभी भी छात्रों के स्कूल आने की संख्या बहुत कम है.

दूसरी ओर जम्मू क्षेत्र में लगातार पर्यटक अब जा रहे हैं और पूरे क्षेत्र में हालात धीरे धीरे सामान्य हो ईहे है। जम्मू-कश्मीर में चप्पे-चप्पे पर सुरक्षाबल तैनात हैं और हर एक गतिविधि पर नजर रखी जा रही है.

गौ तस्करों ने बजरंग दल कार्यकर्ता को मारी गोली

-Mradul tripathi

Share.