website counter widget

आतंकी हमलों से थर्राया जम्मू-कश्मीर  

0

जम्मू-कश्मीर में आतंकी हमलों का सिलसिला जारी है | पुलवामा में आतंकी हमले को अंजाम देने के बाद अब आतंकी फिर से सक्रिय हो गए हैं | वे लगातार हमले किए जा रहे हैं | सोमवार को ही सुरक्षाबलों पर तीन आतंकी हमले किए गए |  इसके बाद से ही सेना अलर्ट पर है और हर गतिविधि पर नज़र रखे हैं | पिछले 24 घंटे में घाटी में एक मुठभेड़ और 2 अन्य आतंकी हमलों में एक पाकिस्तानी आतंकी ढेर हुआ है| अनंतनाग में हुई मुठभेड़ में एक मेजर शहीद हो गए| इन तीन हमलों में एक अधिकारी सहित सुरक्षाबलों के 12 जवान घायल हुए हैं। साथ ही 2 आम नागरिक भी घायल हुए हैं।

सदन में ‘जय श्री राम’ के नारे का कोई मतलब नहीं है- सांसद

मेजर केतन शर्मा शहीद

अनंतनाग जिले के अचबल में सोमवार को पहला हमला किया गया| सुरक्षाबलों को सोमवार सुबह-सुबह आतंकियों के छिपे होने की सूचना मिली थी। इसके बाद इलाके में तलाशी अभियान चलाया गया। आतंकियों को इसकी भनक लगी और उन्होंने सुरक्षाबलों पर हमला करना शुरू कर दिया। इस हमले में मेजर केतन शर्मा शहीद हो गए वहीं एक अन्य अधिकारी और 2 जवान घायल हो गए। मुठभेड़ के दौरान एक आतंकी को ढेर कर दिया गया, जिससे हथियार और गोलाबारूद भी बरामद किया गया है।

घायल अफसर और जवानों को श्रीनगर में आर्मी के 92 बेस हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया है।  19 राष्ट्रीय राइफल्स के शहीद मेजर केतन शर्मा यूपी के मेरठ के रहने वाले हैं। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि उन्हें एक पाकिस्तानी आतंकवादी का शव मिला है। एनकाउंटर वाली जगह से बड़े पैमाने पर हथियार और गोलाबारूद मिला है।

Lok Sabha Speaker : ओम बिड़ला बने लोकसभा के नए स्पीकर

9 जवान और 2 नागरिक घायल

दूसरा हमला पुलवामा के अरिहल गांव में सेना की राष्ट्रीय राइफल्स के एक वाहन पर आईईडी के जरिये किया गया। एक अधिकारी ने बताया जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले में सोमवार को आतंकवादियों ने सेना के एक गश्ती काफिले को निशाना बनाते हुए एक वाहन से बंधे आईईडी में विस्फोट कर दिया, जिसमें 9 जवान और 2 नागरिक घायल हो गए। उन्होंने बताया दक्षिण कश्मीर के इस जिले में अरिहाल-लस्सीपोरा सड़क पर आतंकवादियों ने ईदगाह अरिहाल के पास 44 राष्ट्रीय राइफल्स के कई वाहनों वाले गश्ती दल को निशाना बनाया।

हमला होते ही सेना के जवान तुरंत हरकत में आ गए और इलाके को घेर लिया और किसी दूसरे हमले को टालने के लिए हवा में गोलियां चलाईं। आतंकियों ने जिस जगह पर आईईडी ब्लास्ट किया था, वह 14 फरवरी को पुलवामा में हुए आत्मघाती हमले वाली जगह से 27 किलोमीटर दूर है। पुलवामा हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हुए थे।

Doctors Strike In India Updates : देशभर में डॉक्टरों की हड़ताल में उठी ये 6 मांग

180वीं बटालियन के मुख्यालय पर ग्रेनेड फेंका 

तीसरा हमला सेना के वाहन पर त्राल में सीआरपीएफ की 180वीं बटालियन के मुख्यालय पर ग्रेनेड फेंककर किया गया। हालांकि यह ग्रेनेड कैंप के बाहर की गिरकर फट गया। इस हमले में किसी के भी हताहत होने की सूचना नहीं है। अज्ञात हमलावरों ने मुख्यालय में मौजूद जवानों को निशाना बनाने की साजिश रची थी|

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.