Amarnath Yatra 2019 : कश्मीर में बाहरी खतरा या भीतरी चुनौती ?

0

जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) मेँ खलबली मची हुई है। जैसे ही यह बात सामने आई है कि अमरनाथ यात्रियों पर आतंकी साया मंडरा रहा है वैसे ही राजनीतिक दलों से लेकर आम आदमी ने भी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। यह बेचैनी घाटी तक सीमित नहीं है। इसके दायरे में दिल्ली का राजनीतिक गलियारा भी है। अब सरकार को बाहरी आतंकी खतरे से बचने के साथ-साथ भीतरी चुनौतियों का भी सामना करना पड़ेगा। वहीं पूर्व सीएम महबूबा मुफ़्ती (Mehbooba Mufti On Amarnath Yatra 2019) , उमर अब्दुल्ला के विरोध मे उठे सुरों पर राज्यपाल सत्यपाल मलिक (Satyapal malik) का भी बयान सामने आया।

Unnao Rape Case : छात्रा के सवाल ने की पुलिस अधिकारी की बोलती बंद

अफवाहों पर ध्यान न दें (Satya Pal Malik On Amarnath Yatra 2019)

राज्यपाल सत्यपाल मलिक (Satyapal malik) ने सरकार पर उठ रहे सवालों पर कहा कि सुरक्षा एजेंसियों के पास अमरनाथ यात्रा पर आतंकवादी हमलों के संबंध में गंभीर और विश्वसनीय सूचनाएं हैं। इस संदर्भ में सरकार ने परामर्श जारी कर यात्रियों और पर्यटकों से जल्द से जल्द लौटने के लिए कहा है। सुरक्षा के लिहाज से उठाए गए कदमों को अन्य मुद्दों से जोड़ा जा रहा है, जिसका इससे कोई भी संबंध नहीं है। यही डर की वजह है। उन्होंने नेताओं से अपने समर्थकों से मामलों का घालमेल ना करने, शांति बनाए रखने और अफवाहों पर भरोसा ना करने के लिए कहने का अनुरोध किया।

वीर शहीद अब्दुल हमीद की पत्नी रसूलन बीबी का निधन

विशेष दर्जे से छेड़छाड़ ना करें (Mehbooba Mufti On Amarnath Yatra 2019)

महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) ने सरकार पर टिप्पणी की और कहा कि कुछ दिनों से कश्मीर में दहशत का माहौल है। जम्मू कश्मीर के विशेष दर्जे से छेड़छाड़ न की जाए।

भय के माहौल से निजात नहीं (Omar Abdullah  On Amarnath Yatra 2019)

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने कहा, “इस अप्रत्याशित आदेश से अमरनाथ यात्रियों और पर्यटकों पर गंभीर आतंकी हमले की वास्तविक आशंका प्रतीत हो रही है, लेकिन इस आदेश से घाटी में फिलहाल व्याप्त भय के माहौल से निजात नहीं मिलने वाली है।’’

उमर अब्दुल्ला ने एक और ट्वीट किया, “आपको क्या लगता है कि आधिकारिक आदेश देखने के बाद पर्यटक जितनी जल्दी हो सके घाटी से नहीं निकल जाना चाहेंगे? इस आदेश को देखने के बाद यहां कौन रुकना चाहेगा। यहां से जाने वाले लोगों की वजह से एयरपोर्ट और हाइवे जाम हो जाएंगे।”

आतंकियों के निशाने पर अमरनाथ यात्री, घाटी छोड़ने की सलाह

 

Share.