कश्मीर के बाद जम्मू के नेताओं पर एक्शन, जानिए घाटी का हाल

0

जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) से आर्टिकल 370 (Article 370) के हटने के बाद शुरू हुआ विवाद समाप्त होने का नाम ही नहीं ले रहा है। पहले महबूबा मुफ़्ती (Mehbooba Mufti) और उमर अब्दुल्ला (Omar Abdullah) जैसे कश्मीर के नेताओं को नज़रबंद किया गया और फिर उन्हें गिरफ्तार किया गया। अब भाजपा सरकार ने जम्मू में भी नेताओं की गिरफ्तारी शुरू कर दी है। स्थानीय पुलिस ने एहतिहात के तौर पूर्व मंत्री और डोगरा स्वाभिमान संगठन पार्टी के अध्यक्ष चौधरी लाल सिंह को नजरबंद (Jammu First Leader Lal Singh House Arrest ) किया है। इसके अलावा घाटी के कई लोगों को गिफ़्तार किया जा चुका है।

Article-370 पर अमेरिका का बयान, नहीं…

जानकारी के अनुसार, चौधरी लाल सिंह (Jammu First Leader Lal Singh House Arrest ) को जम्मू के गांधीनगर में उनके सरकारी आवास से निकलने की इजाजत नहीं है। यदि वे पुलिस की कार्रवाई में बाधा डालते हैं या विद्रोह फैलाने की कोशिश करते हैं तो उनके खिलाफ सख्त कदम उठाया जा सकता है। नेशनल कॉन्फ्रेंस के वरिष्ठ नेता फारूक अब्दुल्ला ने कहा था कि कश्मीर घाटी में लोगों को कैद किया जा रहा है। उमर अब्दुल्ला जेल में हैं। हम ग्रेनेड या पत्थर फेंकने वाले नहीं हैं। मेरा भारत सभी के लिए लोकतांत्रिक, धर्मनिरपेक्ष है। हम बदलाव के लिए शांतिपूर्ण संकल्प में विश्वास रखते हैं।

Kerala Nun Rape Case : पीड़िता का साथ देने वाली नन का चर्च ने किया ये हाल

जानिए क्या है घाटी के हाल

आर्टिकल 370 हटने के बाद जम्मू-कश्मीर (Jammu First Leader Lal Singh House Arrest ) के हालात धीरे-धीरे सामान्य होते जा रहे हैं। लोगों का घरों से निकलना शुरू हो गया है। इलाकों में शांति बनी हुई है। वहीं जो लोग सरकार के फैसले के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे उन्हें गिरफ्तार किया जा चुका है। घाटी में बने हालातों पर कश्मीर के वरिष्ठ साहित्यकार और राजनीतिक मामलों के जानकार हसरत गड्डा का कहना है कि हालांकि उस समय और आज की परिस्थितियां अलग हैं।

Unnao Rape case: पीड़िता के शरीर में खतरनाक बैक्टीरिया

मगर जिस तरह से कश्मीर केंद्रित दलों की सियासत और एजेंडा खत्म हुआ है, उसके बाद उनके पास एक मंच पर जमा होने के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं हैं।

 

Share.