website counter widget

पीएम के दबाव में हैं कैलाश विजयवर्गीय?

0

इंदौर क्षेत्र क्रमांक तीन ( Indore-3 Assembly ) के विधायक आकाश विजयवर्गीय (Akash Vijayvargiya) के कारण भाजपा के कई नेताओं पर गाज गिरने वाली है। यहां तक की भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ( Kailash Vijayvargiya) भी अपने विधायक पुत्र के कारनामे के कारण डरे सहमे हैं। वे अब कुछ भी बोलने से पहले कई बार सोच रहे हैं कि कहीं जैसे बेटे के हाथ से बल्ला फिसला वैसे जुबान न फिसल जाए। कैलाश विजयवर्गीय जो मीडिया वालों को उनकी औकात दिखाने से भी पीछे नहीं हटते हैं, वे अब मीडिया के सामने चुप्पी साधे बैठे हैं। उनकी चुप्पी के बाद कयास लगाए जा रहे हैं कि कहीं में पीएम मोदी के कारन तो चुप नहीं हैं।

6 वर्षीय मासूम से निर्भया जैसी दरिंदगी, आक्रोश में राजधानी

मुझे छोड़ दो

नगर निगम के कर्मचारी को बैट से पीटने वाले विधायक आकाश विजयवर्गीय को भारतीय जनता पार्टी (BJP ) ने नोटिस जारी किया है।  हालांकि बीजेपी के वरिष्ठ नेता और आकाश विजयवर्गीय के पिता कैलाश विजयवर्गीय का कहना है कि नोटिस के बारे में उन्हें जानकारी नहीं है। इस बारे में जब उनसे पूछा गया तो उन्होंने कहा कि मेरे पास कोई जानकारी नहीं है, मुझे छोड़ दो। बैट कांड में फंसे बेटे को बचाने के लिए कैलाश विजयवर्गीय की रणनीति क्या है और भाजपा ने उसने लिए क्या सोच रखा है इस बारे में भी अभी तक खुलासा नहीं हुआ है। वहीँ लोगों का कहना हैं कि पीएम की डांट के बाद कैलाश विजयवर्गीय की बोलती बंद हो गई है।

अब धोती- कुर्ता पहनकर ट्रेन में सफर करना हुआ बैन!

नोटिस के बारे में कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि मुझे नोटिस की कोई जानकारी नहीं है। मैंने समाचार पत्रों में पढ़ा है कि आकाश को नोटिस मिला है। पिता की हैसियत से मुझे आकाश को जितना समझाना चाहिए था जितना डांटना चाहिए था, मैं कर चुका हूं। अब इस पर कोई सार्वजनिक टिप्पणी करने की कोई जरूरत नहीं है। विधायक आकाश विजयवर्गीय को भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने नोटिस जारी किया है. ये नोटिस बीजेपी अनुशासन समिति ने जारी किया है। इस मुद्दे पर पीएम मोदी ने भी काफी नराजगी जताई थी। पीएम मोदी ने कहा था कि बेटा किसी का भी हो ये बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

लोकायुक्त की छापामार कार्रवाई, रिश्वत लेते पटवारी गिरफ्तार

क्या था मामला ?

26 जून इंदौर नगर निगम के कर्मचारी जर्जर हो चुकी इमारत को गिराने पहुंचे थे। निगम अमले की कार्रवाई से पहले ही आकाश विजयवर्गीय सपने साथियों के साथ पहुंचे और उन्होंने कार्रवाई का विरोध किया। इसके बाद विधायक ने निगम के एक कर्मचारी की बल्ले से पिटाई कर दी थी।

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.