website counter widget

जानिए अयोध्या में मिली जमीन का क्या करेंगे मुसलमान ?

0

वर्षों से चला आ रहा अयोध्या भूमि विवाद (Ayodhya land dispute case ) का समाधान इस बात पर हुआ कि विवादित भूमि पर राम मंदिर (Ram Mandir ) का निर्माण किया जाएगा और मुसलमानों को पांच एकड़ जमीन दी जाएगी। जब से जमीन देने का फैसला सामने आया है तब से कई लोगों के बयान भी सामने आए हैं। किसी ने कहा है कि पांच एकड़ जमीन पर सबसे बड़ी मस्जिद का निर्माण होना चाहिए, किसी ने कहा स्कूल का, तो किसी ने कहा कि उस जमीन पर अस्पताल बनाना चाहिए। वहीं कुछ लोग ऐसे भी हैं, जिन्होने इसे खैरात बताकर लेने से इनकार कर दिया। वहीं अब बाबरी मस्जिद (Babri Mosque) के पक्षकार रहे इकबाल अंसारी (Iqbal Ansari) ने इसे लेकर बड़ा बयान दिया है।

इकबाल अंसारी का कहना है कि यदि सरकार हमें जमीन देती है तो हम वहां स्कूल (School) और हॉस्पिटल (Hospital) बनवाएंगे। कोर्ट के फैसले के बाद हिंदू-मुस्लिम के बीच पैदा हुई नफरत खत्म हो गई। अब नहीं चाहते कि हिंदुस्तान में अफरा-तफरी का माहौल हो। वहीं मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड और सुन्नी वक्फ बोर्ड ये ज़मीन लेने से इनकार कर चुका है।

इकबाल अंसारी ने कहा आगे कि कोर्ट का फैसला था हमने सम्मान किया। हमने कहा था कोर्ट जो भी फैसला करेगा उसका सम्मान करेंगे। कोर्ट ने मस्जिद के लिए जमीन दी है। कहां दी है यह नहीं पता है।  अगर हमें बुलाया जाएगा तो फिर हम इस पर अपनी कोई रणनीति बताएंगे। हिंदू-मुसलमान के बीच में नफरत पैदा थी, वह इस फैसले के साथ खत्म हुई और अब हम नहीं चाहते कि अब आगे कोई नफरत हिंदू-मुस्लिम के बीच हो। कोर्ट ने जो आदेश दिया है उसके मुताबिक हमें जमीन मिलनी चाहिए। पीएम मोदी और सीएम योगी की सरकार है, देश में अमन शांति रही है, वैसे ही आगे भी रहेगी। हमारे यहां मस्जिद और मदरसे की जरूरत है। सरकार हमें जमीन देती है तो हम स्कूल और हॉस्पिटल बनाएंगे। हम चाहते हैं कि इसमें अब कोई नया मोड़ ना आए। हिंदुस्तान में कोई अफरा-तफरी का माहौल ना हो। हम सरकार से मांग करेंगे कि हमें मदरसा बना कर दे।

    – Ranjita Pathare 

 

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.