website counter widget

Indira Gandhi’s Birth Anniversary: इन फैसलों ने इंडिया गांधी को बनाया आयरन लेडी

0

भारत की पहली महिला मुख्यमंत्री (India’s first female Chief Minister ) और आयरन लेडी (Iron Lady Indira Gandhi ) के नाम से प्रख्यात इन्दिरा गांधी की आज 102वीं जयंती (Indira Gandhi’s Birth Anniversary ) है। उनका जन्म 19 नवंबर 1917 को इलाहाबाद में हुआ था। वे प्रभावी व्यक्तित्व वाली मृदुभाषी महिला थीं। अपने बेबाक, तेज तर्रार और निडर स्वाभाव के कारण उन्होने कई बड़े-बड़े फैसले लिए। आतंकवाद पर लगाम कसने और पाकिस्तान के टूकड़े करने जैसे कई बड़े फैसले लेकर उन्होने साहस दिखाया। अपने पिता जवाहरलाल नेहरू के निधन के बाद इंडिया गांधी ने सक्रिय राजनीति में कदम रखा। आज हम इंदिरा गांधी के उन पाँच फैसलों के बारे में बता रहे हैं, जिनके कारण उन्हें आयरन लेडी के खिताब से नवाजा गया।

आदर्शों वाली बीजेपी के पूर्व विधायक पर बलात्कार का आरोप

पाकिस्तान को मात

1971 में इंदिरा गांधी की अगुवाई वाली कांग्रेस सरकार ने पूर्वी पाकिस्तान (बंगालदेश) को मदद देने का फैसला किया था। उस समय पाकिस्तान अपने ही लोगों पर अत्याचार कर रहा था। ऐसे में इंदिरा गांधी की मदद से बांग्लादेश पाकिस्तान से अलग हुआ।

हमे NDA से निकालने वाले BJP कौन : शिवसेना

पहला परमाणु परीक्षण

18 मई 1974 को राजस्‍थान के पोखरण में देश का पहला परमाणु परीक्षण किया गया था। इससे पूरी दुनिया चकित हो गई थी। उस समय इन्दिरा गांधी ने दुनिया को भारत का लोहा मनवाया था।

ऑपरेशन ब्लूस्टार – आतंक का सफाया

अमृतसर के स्वर्णमंदिर में वर्ष 1984 में ऑपरेशन ब्लूस्टार के लिए आज्ञा देकर भी इंदिरा गांधी ने साहस भरा कदम उठाया था। इसमें आतंकियों का सफाया तो हुआ ही था, लेकिन कई आम नागरिक भी मारे गए। यही ऑपरेशन ब्लूस्टार इंदिरा गांधी की हत्या का कारण बना।

बैंकों का राष्ट्रीयकरण

19 जुलाई, 1969 को इंदिरा गांधी की सरकार ने एक अध्यादेश पारित किया और 14 निजी बैंकों का राष्ट्रीयकरण कर दिया। इसके बाद इन सभी बैंकों का स्वामित्व सरकार के पास चला गया।

श्रीलंका की ट्रेनिंग पर उठाई आवाज

इन्दिरा गांधी ने ब्रिटिश सेना को श्रीलंकाई सैनिकों को प्रशिक्षण देने के खिलाफ आवाज उठाई थी। इसके लिए उन्होने ब्रिटिश समकक्ष मार्गरेट थैचर को पत्र लिखकर गुजारिश की थी। उन्होने पत्र में लिखा था कि यदि ब्रिटेन को श्रीलंका की मदद करनी है तो वह राष्ट्रपति जेआर जयव‌र्द्धने से अपील करें कि वे सभी राजनीतिक दलों को साथ लेकर लिट्टे की समस्या का हल निकालें।

    – Ranjita Pathare

ट्रेंडिंग न्यूज़
[yottie id="3"]
Share.