चीन के Coronavirus का इलाज India के पास

0

चीन से फैले कोरोना वायरस (Ayurvedic Medicine For Coronavirus) ने तेजी से अपने पैर पसारना शुरू कर दिए हैं। चीन (China) में इस खतरनाक वायरस (Coronavirus) से मरने वालों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है और यह आंकड़ा 106 तक पहुंच चुका है। विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी WHO ने चीन (China) के लिए आपातकाल की घोषणा कर दी है, हालांकि अन्य देशों के लिए अभी आपातकाल घोषित नहीं किया गया है। अभी तक चीन में इस वायरस (Ayurvedic Medicine For Coronavirus) से 4515 लोग संक्रमित हो चुके हैं जबकि 6973 लोगों के संक्रमित होने का भी संदेह जताया जा रहा है। चीन में 30 हजार लोगों को भी निरिक्षण में रखा गया है और उनकी पूरी तरह से जांच की जा रही है। बता दें कि 976 लोगों की हालत गंभीर बनी हुई है। कोरोना वायरस अब चीन से निकलकर दुनिया के अन्य देशों में भी फैलने लगा है। चीन में फैला यह खतरनाक वायरस (Coronavirus) अब थाइलैंड (Thailand) , नेपाल (Nepal), अमेरिका (America), फ्रांस (France) में भी फैलने लगा है। इसके अलावा कनाडा (Canada), श्रीलंका (Sri Lanka) और जर्मनी (Germany) में भी इस वायरस (Coronavirus) के मामले सामने आए हैं। इन सब देशों के अलावा अब भारत में भी इस वायरस के संदिग्ध मरीज मिलने की खबर सामने आई है। पहले मुंबई (Mumbai) और जयपुर (Jaipur)  में इस वायरस (Coronavirus) के लक्षण देखे गए थे, हालांकि इस वायरस (Ayurvedic Medicine For Coronavirus) की पुष्टि नहीं हो पाई थी। लेकिन इसके बाद बिहार के छपरा (Chapra in Bihar) में इस वायरस (Coronavirus) से संक्रमित एक संदिग्ध का पता चला था।

होशियार : भारत में आया मौत का वायरस – Corona Virus

Indian Dr Thanikasalam Veni का दावा, बना ली Coronavirus की दवा

Indian Dr Thanikasalam Veni का दावा, बना ली Coronavirus की दवा..Coronavirus अब चीन से निकलकर दुनिया के अन्य देशों में भी फैलने लगा है। अभी तक इस वायरस से निपटने का इलाज नहीं खोजा जा सका है लेकिन चेन्नई स्थित रत्ना सिद्धा अस्पताल के डॉक्टर थानीकासालम वेनी ने दावा किया है कि उन्होंने अपनी टीम के साथ मिलकर एक हर्बल दवा की खोज की है जो कोरोनावायरस का इलाज कर सकती है।

Talented India News द्वारा इस दिन पोस्ट की गई मंगलवार, 28 जनवरी 2020

दरअसल एक महिला हाल ही में चीन (China) से वापस लौटी और उसमें कोरोना वायरस (Ayurvedic Medicine For Coronavirus) के लक्षण दिखाई दिए जिसके बाद उसे आनन्-फानन में छपरा के हॉस्पिटल में भर्ती किया गया लेकिन यहां कुछ पता न चल पाने की वजह से उसे पटना मेडिकल कॉलेज ऐंड हॉस्पिटल (PMCH) रेफर कर दिया गया। इस बात की जानकारी देते हुए PMCH के सुपरिटेंडेंट विमल करक ने कहा कि चीन से लौटने पर जब महिला में कोरोना वायरस (Ayurvedic Medicine For Coronavirus)  से मिलते-जुलते लक्षणों को देखा गया तो तत्काल ही उसे छपरा के एक अस्पताल के ICU में भर्ती कर दिया गया। इसके बाद उसे रेफर कर PMCH लाया गया। इसके आगे विमल कहते हैं, “PMCH आने के बाद लड़की के खून का नमूना जांच के लिए पुणे भेजा जाएगा और उसके बाद रिपोर्ट के अनुसार उसका इलाज शुरू होगा। हम इस तरह के संदिग्ध मामलों के लिए पूरी तरह से तैयार हैं।”

Kidney Disease से परेशान लोग जरूर पढ़ें

बता दें कि अभी तक देश में कोरोना वायरस (Ayurvedic Medicine For Coronavirus)  का एक भी पॉजिटिव मामला सामने नहीं आया है। हालांकि मुंबई में पिछले दिनों दो संदिग्ध मरीजों को जिनमें इस वायरस से मिलते-जुलते लक्षण पाए गए थे, उन्हें बीएमसी (BMC) द्वारा संचालित चिंचपोकली के कस्तूरबा अस्पताल में एक अलग वार्ड में रखा गया था। दोनों में इस वायरस के होने की आशंका इसलिए जताई गई थी क्योंकि दोनों हाल ही में चीन (China)  से लौटे थे। इसके अलावा राजस्थान के जयपुर (Jaipr, Rajasthan) में भी चीन (China) से लौटे एक डॉक्टर में इस वायरस से मिलते-जुलते लक्षण मिले। यह डॉक्टर चीन में एमबीबीएस की पढ़ाई कर वापस लौटा था। वायरस (Ayurvedic Medicine For Coronavirus)  के लक्षण मिलने पर तत्काल ही उसे जयपुर के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जयपुर के सवाई मान सिंह अस्पताल के एक अलग वार्ड में उसे रखा गया है। वहीं राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्री डॉ रघु शर्मा ने अस्पताल प्रशासन को उस व्यक्ति व उसके पूरे परिवार की जांच करने के आदेश दिए हैं। वहीं राजधानी दिल्ली से भी 3 मामले सामने आए हैं। राजधानी दिल्ली में तीन संदिग्ध मरीजों के मिलने पर उन्हें तत्काल ही आरएमएल (RML) यानी राम मनोहर लोहिया हॉस्पिटल में दाखिल किया गया है जहां उन्हें अलग-अलग आइसोलेशन वार्डों में रखा गया है। बता दें कि तीनों संदिग्ध कुछ दिन पहले ही चीन से लौटे हैं जिनमें 2 लोग दिल्ली के और एक NCR का है। इस वायरस(Ayurvedic Medicine For Coronavirus)  से निपटने के लिए दिल्ली के आरएमएल अस्पताल को तैयार किया गया है इसी वजह से सोमवार को नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (NCDC) की टीम ने अस्पताल का दौरा किया और पूरा जायजा लिया।

चूंकि भारत चीन (China) से जुड़ा हुआ है और कई नागरिक चीन से लौट रहे हैं तो सभी यात्रियों की एयरपोर्ट पर ही जांच (Ayurvedic Medicine For Coronavirus)  की जा रही है। बेंगलुरु इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर रविवार को सुबह 8 बजे से सभी यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग जारी है। एयरपोर्ट हेल्थ ऑर्गनाइजेशन की तरफ से बताया गया कि बीते 14 दिनों से चीन के वुहान शहर से लौटने वाले सभी यात्रियों की जांच की जा रही है, फिलहाल किसी भी पॉजिटिव रिपोर्ट सामने नहीं आई है। सोमवार तक, 155 उड़ानों में चीन से भारत आने वाले कुल 33,552 यात्रियों की स्क्रीनिंग की गई है। इन सभी के बीच चेन्‍नई स्‍थित रत्‍ना सिद्धा (Rathna Siddha) अस्‍पताल की डॉक्‍टर थानीकासालम वेनी (Dr Thanikasalam Veni) ने ऐसा दावा किया जिससे सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि चीन में भी ख़ुशी की लहर दौड़ गई है। जैसा कि सभी जानते हैं कि अभी तक इस वायरस से निपटने का इलाज नहीं खोजा जा सका है लेकिन डॉक्‍टर थानीकासालम वेनी ने दावा किया है कि उन्होंने अपनी टीम के साथ मिलकर एक हर्बल दवा (Ayurvedic Medicine For Coronavirus)  की खोज की है जो कोरोनावायरस (Coronavirus) का इलाज कर सकती है। डॉ. वेनी को आयुर्वेदिक दवाइयों का 25 साल का तजुर्बा है। अपनी हर्बल दवा के बारे में डॉ. वेनी ने कहा, – “हमने जड़ी बूटियों से दवा बनाई है। यह किसी भी तरह के वायरल बुखार का इलाज करने में काफी प्रभावी है।” डॉ. वेनी के इस दावे से चीन और विश्व स्वास्थ्य संगठन ने रहत की सांस ली है।

ब्रांडेड जूते कर रहे हैं आपके पैरों को कमजोर, देखें वीडियो

Prabhat Jain

Share.