महंत का काला कारनामा मंदिर भी और डिस्को एक साथ ही बना दिए

0

भैया हमारे भारत (India Temple) में नए – नए मामले सामने आते है भारत को सोने की चिड़िया कहां जाता है लेकिन कारनामे (Mahant Rajatgiri Runs Disco Bar) ऐसे करते है यहां के लोग की दुनिया में बात होती है उनकी और फेमस हो जाते है ऐसा ही एक मामला सामने आया की एक आदमी डिस्को (Disco Bar Temple) और मंदिर में साथ में चला रहा है | हिमाचल में एक ज़िला है कांगड़ा बगलामुखी माता का . यहां एक मंदिर है. इस मंदिर को चलाता है एक ट्रस्ट और उस ट्रस्ट को चलाते है अध्यक्ष रजत गिरी, हवन पूजा, यज्ञ टाइप की चीज़ें कराते हैं. लोग अच्छा जानते-मानते हैं. लेकिन अचानक पता चला कि अध्यक्ष जी का एक साइड बिज़नस डिस्को (Disco Temple) बार चलाते है खबर आई है कि डिस्को बार में गाने-बजाने के साथ पीना-पिलाना भी चलता है. डिस्को बार काफ़ी हाई-फाई है और ये जो डिस्को बार है चंडीगढ़ के मोहाली में है और अध्यक्ष रजत गिरी का है |

Brihadeeswara Temple : विश्व प्रसिद्ध बृहदेश्वर मन्दिर का वर्णन

कैफ़े (India Cafe), बार, लॉज (Mumbai Cafe) और क्लब सर्व (Mahant Rajatgiri Runs Disco Bar) सुविधायुक्त डिस्को बार बनाया है रजत गिरी ने. ग्राहकों के लिए माइक्रोब्रेवरी मल्लब फ्रेश बीयर वगैरह भी परोसी जाती है| डिस्को क्लब का अपना ‘पिरामिड वीआईपी’ नाम से मोबाइल ऐप भी है. ग्राहक मोबाइल ऐप पर भी जाकर पार्टी के लिए एडवांस बुकिंग करवा सकते हैं. ‘पिरामिड डिस्को क्लब’ की बेवसाइट भी है. मोहाली के अलावा अमृतसर, चंडीगढ़ (Chandigarh), अंबाला, यमुनानगर, करनाल, पानीपत में भी शाखाएं हैं| बगलामुखी मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष रजत गिरी (Rajatgiri) ने अमर उजाला से बातचीत में माना कि वो डिस्को क्लब चलाते हैं. लेकिन डिस्को क्लब में मंदिर का पैसा नहीं लगा है. उन्होंने अपनी कमाई से डिस्को क्लब चलाया है. इसके अलावा भी उनका करोड़ों का कारोबार और प्रॉपर्टी है. स्थानीय लोग बताते हैं कि बगलामुखी मंदिर (Baglamukhi Temple) के महंत और ट्रस्ट के अध्यक्ष रजत गिरी (Rajatgiri) को महंगी गाड़ियां खरीदने का शौक है. उनके पास महंगी कई गाड़ियां हैं|

5 Mysteries of Indian Temples : प्राचीन धार्मिक स्थलों के 5 अनसुने रहस्यमयी किस्से

इस मामले से एक शब्द याद आता है की भैया बंदा (Mahant Rajatgiri Runs Disco Bar) तो मल्टीटैलेंटेड है जैसे 3 इडियट (3 Idiots Film) ’ का वायरस उर्फ़ वीरू सहस्रबुद्धे, जो एक ही टाइम में दोनों हाथों से लिख सकता था| अब ये सज्जन ने भी वहीं उतापा किया है दो हाथ से दो अलग अलग चीज़े बना दी ताकि आने वाले मंदिर में ना ऐ तो बार में तो आ ही जाए ताकि कमाई कहीं से रुके नहीं |

#TempleTerrorAttack : दिल्ली के मंदिर में तोड़फोड़ का क्या है सच ? जानिए

Vagisha Pandey

Share.