स्वामी कृष्णस्वरूप दासजी का विवादित बयान- पीरियड्स में खाना पकाया तो इस जानवर के रूप में होगा पुर्नजन्म

0

भारत में नारी (Swami Dasji Statement On Menstruation) को देवी का रूप माना जाता है और नारी का सम्मान सदा होना भी चाहिए। संस्कृत में एक श्लोक है- ‘यस्य पूज्यंते नार्यस्तु तत्र रमन्ते देवता: यानी कि जहां नारी की पूजा होती है, वहां देवता निवास करते हैं। किंतु आज हम देखते हैं कि नारी का हर जगह अपमान होता चला जा रहा है। उसे ‘भोग की वस्तु’ समझकर आदमी ‘अपने तरीके’ से ‘इस्तेमाल’ कर रहा है। देश में दुष्कर्म कि घटनाएं बढ़ रही है। इसी बीच एक प्रवचन में एक संत का विवादास्पद बयान सामने आया है. जी हां गुजरात के भुज स्थित स्वामीनारायण मंदिर के स्वामी कृष्णस्वरूप दासजी (Swami Krishna Swaroop Dasji) का महिलाओं को लेकर एक बयान सामने आया है,

जिसे लेकर वह विवादों में घिर गए हैं. अपने बयान में स्वामी कृष्णस्वरूप दासजी ने पीरियड्स (Swami Dasji Statement On Menstruation) यानी माहवारी के दौरान खाना बनाने वाली महिलाओं को लेकर टिप्पणी की है. उनका कहना है कि अगर कोई महिला पीरियड्स के दौरान अपने पति के लिए खाना बनाती है, तो निश्चित तौर पर वह कुतिया के रूप में पुर्नजन्म लेगी. वहीं, ऐसी महिला के हाथ का खाना खाने वाला अगले जन्म में बैल बनेगा.

BHUJ की Hostel में क्यों उतरवाए गए लड़कियों के Inner Wear

स्वामी कृष्णस्वरूप दासजी (Swami Dasji Statement On Menstruation) स्वामीनारायण भुज मंदिर (Swami Narayan Bhuj Temple)  के उपदेशक हैं. गुजराती में दिए उपदेश में उन्होंने कहा, ‘एक वार मासिक धर्म मान रहेली स्त्री ना हाथे रोटला खाई जाओ तोह बीजो अवतार बलाड नो ज छे. हवे तामने जे लागवु होय ते ना लागे. (एक बार अगर कोई माहवारी से गुजर रही महिला की हाथ की बनी रोटी खा ले तो अगले जन्म में निश्चित तौर पर वह बैल बनेगा.)’

उन्होंने पुरुषों से भी कहा कि अगर आप पीरियड्स से गुजर रही महिला के हाथ का बना हुआ खाना खाते हैं तो उसके दोषी आप भी हैं, क्योंकि शास्त्रों में इन चीजों के बारे में साफ-साफ लिखा हुआ है. शादी से पहले आपको पता होना चाहिए कि खाना कैसे खाना है.

कृष्णस्वरूप दासजी ने आगे कहा, ‘मुझे नहीं याद कि मैंने पहले आप लोगों को भी यह बताया कि नहीं बताया. मैं बीते 10 वर्षों में यह सुझाव पहली बार दे रहा हूं. बहुत से संत मुझसे कहते हैं कि अपने धर्म की छुपे तथ्यों पर बात नहीं करना चाहिए, लेकिन मैं बताऊंगा नहीं तो लोगों को पता कैसे चलेगा.’

क्या अमिताभ के घर फिर होने वाला है जलसा?

उन्होंने ये सारी बाते शास्त्रों का हवाला देते हुए कही है इसके बाद उन्होंने कहा, ‘वैसे आपको जो ठीक महसूस हो, वो कर सकते हैं, लेकिन शास्त्रों में यही लिखा है.’ स्वामी कृष्णस्वरूप के इस उपदेश का वीडियो क्लिप भी सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा है.

कृष्णस्वरूप दासजी के उपदेश का वीडियो वायरल (viral video) होने के बाद स्वामीनारायण (Swami Dasji Statement On Menstruation) भुज मंदिर के ट्रस्टी और कारोबारी यादवजी गोरसिया से इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कोई प्रतिक्रिया देने से इनकार कर दिया. वहीं, मंदिर के कोठारी देवप्रकाश स्वामी ने भी इस मामले में किसी तरह की जानकारी नहीं होने की बात कही.

आपको बता दें कि भुज के एक महिला कॉलेज में हाल ही में पीरियड्स (Swami Dasji Statement On Menstruation) को लेकर छात्राओं के साथ बदसलूकी का मामला प्रकाश में आया था. कॉलेज के प्रिंसिपल ने कथित तौर पर पीरियड्स से गुजर रही छात्राओं के साथ कॉलेज परिसर में लोगों से छुआछूत रखने को कहा था. उसने कहा था कि ऐसी छात्राएं दूसरे छात्रों से बातचीत नहीं कर सकती हैं ना ही उन्हें छू सकती हैं. ये भी आरोप है कि कॉलेज में पीरियड्स से गुजर रही छात्राओं का पता लगाने के लिए कथित तौर पर अंडर गारमेंट्स भी उतरवाए गए थे.

अभिनेत्री ने मारी अजय देवगन की बड़ी फिल्म को लात!

-मृदुल त्रिपाठी

Share.