Hyderabad Encounter : दरिंदे ढेर, देश में दिवाली-दशहरे जैसा माहौल

0

हैदराबाद दुष्कर्म ( Hyderabad rape Case ) के दोषियों को आज पुलिस ने सजा दे दी। इसके बाद पूरा देश खुशियां माना रहा है। देश में दिवाली-दशहरे जैसा माहौल बना हुआ है। वैसे असली दशहरा तो आज ही मनाया जाना चाहिए। राणव ने तो केवल सीता माता का अपहरण किया था, लेकिन इस कलयुग में महिलाओं को नोचा जाता है, उन्हें बर्बरता से मारा जाता है। आज से शुरुआत हुई है असली रावणों के अंत की। ये तो केवल शुरूआत है अब जैसे हैदराबाद पुलिस ने किया है वैसी ही वीरता पूरे देश के पुलिस को दिखानी होगी।

150 रुपये का उधार नहीं चुकाया तो पीट-पीटकर मार डाला

27 नवंबर को आरोपियों ने मदद के बहाने पीड़िता के साथ पहले सामूहिक दुष्कर्म किया। इसके बाद हत्या कर शव को आग लगा दी गई, इतना जानकर ही पूरे देश का खून खौल गया। आज पुलिस आरोपियों को उसी जगह पर लेकर गई जहां उन्होने हैवानियत को अंजाम दिया था, उसी जगह पर पुलिस दरिंदों को उनके किए की सज़ा दी जहां प्रियंका रेड्डी तड़पी थी, जहां देश की एक लाड़ली ने अंतिम सांस ली थी, शायद आज के इस दशहरे से एक छोटी मिसाल कायम हो जाए। अब कम से कम हैदराबाद में तो लोगों के मन में भाय होगा। आज हैदराबाद पुलिस का सम्मान किया जा रहा है, महिलाएं उन्हें राखी बांध रही है, मिठाई खिलाई जा रही है।

Hyderabad Encounter : सोशल मीडिया पर ऐसा रहा यूजर्स का रिएक्शन

और बेटियों को इंसाफ का इंतजार…

निर्भया जैसे निर्मम हत्याकांड (Nirbhaya gangrape case ) के आरोपी अभी भी सरकारी मेहमान बने हुए हैं। सात साल बीत जाने के बाद भी पीड़िता के घरवाले न्याय की आस में आज तक भटक रहे हैं। उन्नाव में बलात्कारी दिन दहाड़े पीड़िता को जला देते हैं। रांची, बक्सर, भोपाल, इंदौर, लखनऊ, कुर्ला, बिलासपुर, गुलबर्ग जैसे लगभग देश के हर शहर में पीड़िता या उनके घर वाले आज भी न्याय की आस में हैं। आज हुए एंकाउंटर पर समाज के कुछ बुद्धिजीवी सवाल उठा रहे हैं और इस प्रक्रिया को गलत बता रहे हैं। एंकाउंटर की जांच की मांग कर रहे हैं, लेकिन शायद अब यही सही और अंतिम रास्ता है जब तक कि सरकार कोई बड़ा कानून नहीं बना देती या बड़ा फैसला नहीं ले लेती। क्योंकि किसी को तो समाज में फैल रही इस हैवानियत नाम की गंदगी को मिटाने के लिए कदम आगे बढ़ाना था और वह कदम आज हैदराबाद पुलिस ने उठाया। उनके कारण ही छोटी ही सही लेकिन खुशी तो मिली है आज देश की बेटियों को थोड़ा सुकून मिला है। यदि पुलिस की इस वीरता को भी सवालों के और जांच के घेरे में लाकर उनका मनोबल गिराया गया तो फिर कोई पुलिस जवान ऐसा साहस नहीं करेगा।

Hyderabad gangrape: प्रियंका के पिता ने कहा ‘मेरी बच्ची की आत्मा को अब शांति मिलेगी’

              – Ranjita Pathare 

 

 

 

 

Share.