छात्राओं को इस कॉलेज में कपड़ो की लम्बाई देखकर मिलता है प्रवेश: Video वायरल

0

आजकल चारों तरफ देश में महिलाओं और बेटियों के सशक्तिकरण के लिए अभियान चलाए जा रहे है. जिसमे बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, बेटा बेटी एकसमान , और हर संभव प्रयास किये जा रहे है नारी को सशक्त करने के लिए लेकिन क्या सिर्फ यह कहने क लिए है। या सिर्फ दिखावा करने के लिए क्यूंकि देश में आज भी ऐसे कई हिस्से है जहा बेटियां अपनी मर्जी से न कपडे पहन सकती है न घूम फिर सकती है। आज हम आपको ऐसी ही घटना से रूबरू कराने जा रहे है। ये मामला आंध्र प्रदेश की राजधानी हैदराबाद के एक जाने-माने गर्ल्स कॉलेज सेंट फ्रांसिस गर्ल्स कॉलेज (St. Francis Gilrs College) का है। जहा छात्राओं के ड्रेस कोड को लेकर विवाद हो गया यह घटना शुक्रवार की है जिसका वीडियो सोशल मीडिया में तेजी से वॉयरल हो रहा है। घटना को हुए 2 दिन बीत चुके है लेकिन मामला शांत होने की बजाय  दिन बा दिन और तूल पकड़ता जा रहा है।

मोदी को लगता है अब्दुल्ला से डर

Guys, remember the day you came to this college for your admission? Y'all had a sense of admiration for the college and…

Zanobia Tumbi द्वारा इस दिन पोस्ट की गई शुक्रवार, 13 सितंबर 2019

जानकारी के अनुसार कॉलेज में छात्राओं के लिए ड्रेस कोड (Dress Code) को लेकर नया आदेश जारी किया गया है. इसमें छात्राओं को घुटने से लंबी कुर्ती या सलवार कमीज़ में ही कॉलेज में एंट्री मिलने की बात कही जा रही है. यही नहीं छात्राओं की कुर्ती की लंबाई नापने के लिए कॉलेज ने बाकायदा एक महिला सिक्योरिटी गार्ड को भी हायर कर रखा है. वह छात्राओं के आईडी कार्ड की जांच करती हैं और उनकी कुर्तियां की लंबाई भी चेक करती हैं.

आंध्र प्रदेश विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष ने की आत्महत्या

सेंट फ्रांसिस गर्ल्स कॉलेज प्रशासन ने यह नया ड्रेस कोड 1 अगस्त से लागू किया है. जो छात्राएं आदेश का पालन नहीं कर रही हैं, उन्हें क्लास में आने की इजाजत नहीं दी जा रही. छात्राओं ने अब इसका विरोध शुरू कर दिया है. सोशल मीडिया पर इसका एक वीडियो भी वायरल हो रहा है. इस वीडियो में महिला सिक्योरिटी गार्ड छात्राओं की कुर्ती की लंबाई जांच रही हैं. तय नाप से छोटी कुर्ती पहनने वाली छात्राओं को क्लास में जाने की परमिशन नहीं दी जा रही है.
छात्राओं ने इस नियम को लेकर विरोध करना शुरू कर दिया है उनके अनुसार जब देश इस समय नारी सशक्तिकरण की बात कर रहा है तब यह नियम इसके खिलाफ है।

Babri Demolition Case: इस सीएम ने बहाया था बाबरी में बेगुनाहों का खून!

-Mradul tripathi

Share.