website counter widget

आखिर क्यों शाह जा रहे हैं जम्मू-कश्मीर के दौरे पर?

0

जम्मू-कश्मीर में शांति स्थापित करना भारत सरकार का सबसे प्रमुख एजेंडा है। केंद्र सरकार इस ओर कदम उठा रही है। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के लिए यह मुद्दा, उनके गृहमंत्री बनने के बाद उनकी सूची में शीर्ष पर आ गया है (Amit shah Going To Visit J&K)। अपने एजेंडे में शामिल इस मुद्दे की रूप रेखा को तैयार करने के लिए अब अमित शाह 27 जून को जम्मू-कश्मीर के दौरे पर रवाना होंगे। इस दो दिवसीय दौरे के दौरान शाह तमाम संभावनाओं का आधार तैयार कर वापिसी कर सकते हैं।

नोटबंदी के बाद मोदी ने की अब ये कंपनियां बंद!

जम्मू-कश्मीर के दौरे के दौरान भाजपा अध्यक्ष एवं गृहमंत्री अमित शाह बाबा बर्फानी के दर्शन करने अमरनाथ की पवित्र गुफा भी जा सकते हैं। फिलहाल इस बारे में अभी कोई आधिकारिक जानकारी नहीं दी गई है। अमित शाह के दौरे से पहले जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने हुर्रियत के नेताओं के साथ शाह की वार्ता की मंशा प्रकट की है। गौरतलब है कि राज्यपाल सत्यपाल मलिक राज्य में जम्हूरियत और कश्मीरियत की पहल कर रहे हैं। मलिक के इस कदम का स्वागत पीडीपी की नेता महबूबा मुफ्ती और नेशनल कांफ्रेस के फारुख अब्दुल्ला ने किया (Amit shah Going To Visit J&K)। अब शाह अपने दौरे के दौरान राज्यपाल मलिक से मिलकर जम्मू-कश्मीर के हालात जानेगे। इस दौरान आतंकवाद, हिंसा और सुरक्षा जैसे मुद्दों को लेकर भी चर्चा की जाएगी।

Rahul Gandhi Resignation : अध्यक्ष पद छोड़ने पर अड़े राहुल गांधी

गौरलतब है कि अमरनाथ यात्रा भी शुरू होने वाली है। इस वजह से अमरनाथ यात्रियों की सुरक्षा काफी अहम मुद्दा माना जा रहा है। राज्यपाल से मुलाकात के बाद शाह सुरक्षा अधिकारियों से मुलाकात कर विचार-विमर्श करेंगे। राज्य में सुरक्षा व्यवस्था को लेकर वे उन्हें कुछ दिशा-निर्देश भी दे सकते हैं। राज्य के अन्य राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों से भी शाह मुलाकात कर सकते हैं। चूंकि शाह जमीनी फॉर्मूले पर कार्य करने के लिए काफी मशहूर हैं, इसलिए वे जम्मू-कश्मीर में भाजपा की सरकार स्थापित करने के लक्ष्य से दौरा कर रहे हैं। इस दौरान वे राज्य के भाजपा कार्यकर्ताओं को कुछ मंत्र भी दे सकते हैं।

Video : किन्नरों ने सड़क पर उतारे कपड़े, तो लोगों ने कर दी पिटाई…

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.