website counter widget

JNU विवाद में अब हिन्दू महासभा की एंट्री, दिया विवादित बयान

0

पिछले काफी समय से चल रहे जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय विवाद (Jawaharlal Nehru University controversy) का शोर पूरे देश में गूंज रहा है। सभी इस पर अपनी – अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं। कोई इस विवाद को सही मानते हुए जेएनयू (JNU Protest) के छात्रों का साथ दे रहा है, तो कोई सरकार का। अब हिन्दूमहासभा (Hindu Mahasabha  Contraversial Statement ) की भी इस विवाद में एंट्री (Hindu Mahasabha Entry in JNU Controversy ) हो गई है। उन्होने एक नई शर्त का सुझाव देते हुए कहा कि यदि सभी छात्र देशभक्ति के नारे लगाए तो उनकी फीस कम कर देनी चाहिए।

यात्रीगण कृपया ध्यान दे प्रदेश में मेट्रो के बाद दौड़ेगी रेपिड ट्रेन

देश भक्ति से फीस कम ?

हिंदू महासभा (Mahasabha) का कहना है कि ‘जय श्री राम’, ‘भारत माता की जय’ और ‘वंदे मातरम’ के नारे लगाने वालों की फीस कम देनी चाहिए (JNU Protest)। इसके लिए एक शर्त भी बनाई जानी चाहिए। इसके साथ  ही हिंदू महासभा ने जेएनयू में पढ़ रहे छात्रों को भारत विरोधी बताया। हिन्दू महासभा के नेता का कहना है कि माता-पिता अपने बच्चों को खाना खिलाते हैं। लेकिन, इसका मतलब यह नहीं है कि अगर वह गुमराह हो जाएं तो वे उन्हें अनुशासित नहीं कर सकते हैं। जो छात्र भटक गए हैं, उन्हें भी अनुशासित करने की जरूरत है। जो भगवान श्रीराम का नाम लेगा, वह मर्यादित रहेगा। अगर आप उनका नाम नहीं लेना चाहते, तो आप ‘वंदे मातरम’ और ‘भारत माता की जय’ तो कह सकते हैं। यह तो बोल सकते हो। ऐसा करना देशभक्ति है।जेएनयू विद्यार्थियों को ‘पीजा-बर्गर वाले हैं , उनमें संस्कारों की कमी है।

Jio यूजर्स के लिए बुरी खबर, मुकेश अंबानी लिया ये बड़ा फैसला

फीस वृद्धि पर छात्रों का हंगामा

जेएनयू (JNU Protest) के छात्र  फीस बढ़ने का विरोध कर रहे हैं।  छात्रों की मांग है कि शुल्क वृद्धि को पूरी तरह से वापस लिया जाए।  छात्रों के परामर्श से एक नया छात्रावास तैयार  किया जाए। अब विरोध कर छात्रों का प्रतिनिधित्व मण्डल मानव संसाधन विकास मंत्रालय (MHRD) पहुंचा। मंत्रालय ने विश्वविद्यालय में सभी मुद्दों के शांतिपूर्ण समाधान के लिए छात्रों और प्रशासन के साथ चर्चा के लिए एक उच्च शक्ति समिति नियुक्त की है।

किसानों की आत्महत्या के लिए भाजपा जिम्मेदार!

        – Ranjita Pathare

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.