website counter widget

Hindi Diwas 2019 Special : क्या आप कर सकते हैं हिन्दी के इन शब्दों का सही उच्चारण

0

हिंदी ( Hindi Diwas 2019 ) हमारी मातृभाषा है, जो भारत में सबसे अधिक बोली जाती है। आज हिन्दी दिवस के मौके पर हम आपके लिए कुछ ऐसे शब्द और उनके अर्थ के बारे में बता रहे हैं, जो उच्चारण काफी कठिन होता है। क्या आप कर सकते हैं नीचे बताए गए हिन्दी (Hindi Diwas 2019) के कुछ शब्दों का सही उच्चारण –

साध्वी प्रज्ञा सिंह के लिए बीजेपी ने लिया बड़ा फैसला

किंकर्तव्यविमूढ़

संधि-विच्छेद = किम् (क्या) + कर्तव्य (कार्यभार या ज़िम्मेदारी) + विमूढ़ (असमंजस की स्थिति)

अर्थ = अवाक रह जाना, पशोपेश में पढ़ना।

वह बकरी और भेड़िये की कहानी याद है ना आपको, जिसमें हम लोगों ने पहली बार यह शब्द पढ़ा था? तब ‘किंकर्तव्यविमूढ़’ कहना एक कौतूहल का विषय बन जाया करता था (Hindi Diwas 2019)। आज भी इसे एक बार में बिना अटके बोल लेने पर आपको गौरव की अनुभूति तो ज़रूर होती होगी। इस शब्द का इस्तेमाल तब किया जाता है जब कर्ता चकित होने के कारण यह निर्णय नहीं ले पाता है कि उसे क्या करना चाहिए।

भग्नावशेष

संधि-विच्छेद = भग्न (टूटे हुए) + अवशेष (टुकड़े या हिस्से)

अर्थ = किसी वस्तु या अट्टालिका के टूटे हुए हिस्से

यह शब्द भग्न और अवशेष से मिलकर बना है और इसका प्रयोग प्रायः पुरातत्व (प्राचीन) काल की वस्तुओं, जो कि अब जर्जर अवस्था में हैं, के लिए किया जाता है। हालांकि, यह कोई नियम नहीं है, इसीलिए आप किसी भी वस्तु के टूटे हुए हिस्सों को इंगित करने के लिए ‘भग्नावशेष’ शब्द प्रयोग में ला सकते हैं।

साध्वी प्रज्ञा सिंह के लिए बीजेपी ने लिया बड़ा फैसला

 असहिष्णु

संधि-विच्छेद = अ (नहीं) + सहिष् (सहन करना)+ नु (वाला)

अर्थ = जिसमें सहनशीलता नहीं हो।

भारत को एक सहिष्णु देश कहा जाता है। यह शब्द बस इसी सहिष्णुता के विलोम अर्थ को प्रतिनिधित्व करता है। ‘अ’ उपसर्ग लगाकर किसी शब्द में नकारात्मकता लायी जा सकती है। जो सहिष्णु, अर्थात सहनशील ना हो, उसे असहिष्णु कहते हैं।

क्लिस्ट

अर्थ = जटिल

क्लिस्ट का मतलब होता है ‘कठिन’। यह विशेषण उन शब्दों के लिए प्रयोग किया जाता है, जिन्हें बोलने में कठिनाई आती हो। कुछ भी हो, यह शब्द अपने नाम को सार्थक करने में पूरी तरह सफल है, इस बात से तो आप भी सहमत होंगे?

अट्टालिका

अर्थ = किसी उंच्ची इमारत का ऊपरी कक्ष या हिस्सा।

गगनचुम्बी या आकाश के समान ऊंचाई वाली इमारतों या रचनाओं के लिए अट्टालिका शब्द का इस्तेमाल होता है। यह किसी मीनार या ऊँची रचना की सबसे ऊंची वह जगह है, जहाँ चढ़कर सबसे दूर तक का दृश्य दिखाई दे सकता है।

गरिष्ठ

संधि-विच्छेद = गर (बाहर) + इष्ठ (बलपूर्वक)

अर्थ = कठिनाई से पचने वाला।

गरिष्ठ शब्द को अधिकतर भोजन के सन्दर्भ में प्रयोग किया जाता है। वह भोजन जिसे अधिक घी, तेल, या मलाई से पकाया गया हो और पचाने में सम्भवतः कठिनाई हो, उसे गरिष्ठ श्रेणी में रखा जाता है।

जिजीविषा

अर्थ =  जीवित रहने की इच्छा।

जीवित रहने के लिए जिजीविषा, यानी जीने की इच्छा और जिंदगी के प्रति उत्साह होना ज़रूरी है। इच्छाशक्ति या जीवट को दर्शाने वाला शब्द बोलने में थोड़ा कठिन तो है पर सुनने में उतना ही अच्छा भी लगता है।

योगी के आदेश पर 40 साल पुराना कानून बदला

प्रारब्ध

संधि-विच्छेद = प्र (अधिकता) + आरब्ध (जिसकी शुरुआत हो चुकी हो)

अर्थ = नियति

प्रारब्ध ऐसी घटनाओं के लिए प्रयोग किया जाता है जो प्रकृति द्वारा पूर्व-निर्धारित हों या माना जाए कि भाग्य में लिखा हुआ हो। उदाहकरण के लिए – रावण का प्रारब्ध राम के हाथों मृत्यु ही था।

तारतम्य

संधि-विच्छेद = तार (पंक्ति) + तम्य (पिरोना)

अर्थ = किसी घटना या क्रम की आवृत्ति।

जब कोई घटना या क्रिया एक निश्चित अनुक्रम में हुई हो अथवा कुछ वस्तुएं या शब्द एक सोचे जा सकने वाले क्रम में दोहराए जाएँ, तब कहा जाता है वह तारतम्य हैं। तारतम्यता एकरसता का द्योतक है।

अक्षुण्ण

संधि-विच्छेद = अ (नहीं) + क्षुण्ण (टूटा हुआ)

अर्थ = जिसके टुकड़े करना संभव ना हो।

जो कभी टूट ना सकता हो या सदियों से एक-सा ही हो, उसे अक्षुण्ण कहा जा सकता है।

   – रंजीता पठारे 

 

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.