एलजी निवास पर धरना देने को अवैधानिक बताया

0

पिछले  सात दिनों से अरविन्द केजरीवाल और आम आदमी पार्टी के कुछ नेता उपराज्यपाल के निवास पर धरना दे रहे हैं| सभी नियम-कायदे ताक पर रखकर वे मनमर्जी चला रहे हैं, परंतु अब हाईकोर्ट ने उन्हें फटकार लगा दी है| हाईकोर्ट ने कहा कि आपको किसी के घर में धरना देने की अनुमति किसने दी?  आप इस तरह से किसी के घर या दफ्तर में घुसकर धरना या हड़ताल नहीं कर सकते।

गौरतलब है कि केजरीवाल के धरने पर बैठने के खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट में बीजेपी विधायक विजेंद्र गुप्ता ने एक याचिका दायर की थी, जिसकी सुनवाई आज अदालत ने की। इस सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने दिल्ली के मुख्यमंत्री और उनके मंत्रियों के धरने पर सख्त टिप्पणी की। जब सुनवाई शुरू हुई तो दिल्ली सरकार के वकील ने अदालत को बताया कि दिल्ली सरकार के अधिकारियों ने कल यह बात स्वीकार की थी कि वे मंत्रियों द्वारा बुलाई जा रही बैठक में भाग नहीं ले रहे। इस पर दिल्ली हाईकोर्ट ने वकील से कहा कि मुद्दा ये है कि आप धरने पर बैठे हैं। आपको किसने यह अधिकार दिया कि आप इस तरह के धरने पर बैठें? हाईकोर्ट ने इसे अवैधानिक बताया|

दूसरी और शिवसेना ने अरविन्द केजरीवाल का समर्थन किया और इस संबंध में उद्धव ठाकरे ने अरविंद केजरीवाल से फोन पर बात की| उद्धव ठाकरे ने कहा कि केजरीवाल दिल्ली के लिए अच्छा कर रहे हैं| केजरीवाल की सरकार दिल्ली की चुनी हुई सरकार है|  अभी जो कुछ भी दिल्ली में हो रहा है, वह लोकतंत्र के लिए अच्छा नहीं है|

Share.