कठुआ मामले में हाईकोर्ट की पहल

0

कठुआ मामले में आठ साल की मासूम के साथ हुई हैवानियत के बाद पूरा देश आक्रोशित है| इसी बीच दिल्ली हाईकोर्ट ने एक बड़ा बयान दिया है| गौरतलब है कि दुष्कर्म पीड़िता की पहचान सार्वजनिक करना आपत्तिजनक माना जाता है| ऐसे में कठुआ केस में दुष्कर्म पीड़िता के नाम और फोटो सार्वजनिक होने पर दिल्ली हाई कोर्ट ने पत्रकारों को फटकार लगाई थी|

अब जस्टिस गीता मित्तल और जस्टिस सी.हरिशंकर की बेंच ने कठुआ गैंगरेप पीड़िता की जानकारी सार्वजनिक करने वाले न्यूज़ मीडिया पर 10 लाख की पेनल्टी की बात कही है| दिल्ली हाईकोर्ट की इस बेंच ने कहा है कि ऐसे मीडिया हाउसेस, जिन्होंने पीड़िता की निजी जानकारियों पर सार्वजनिक तौर पर चर्चाएं की है, उन्हें 10-10 लाख रुपए कोर्ट में जमा करने होंगे|

दिल्ली हाईकोर्ट ने ऐसे कुछ मीडिया चैनलों का नाम भी साझा किया, जो पीड़िता के नाम और अन्य जानकारियों को सार्वजनिक करते पाए गए| इनमें इंडिया टीवी, द टाइम्स ऑफ़ इंडिया, रिपब्लिक टीवी, एनडीटीवी, इंडियन एक्सप्रेस, द हिन्दू आदि शामिल हैं|

Share.