स्कूली बच्चों की सुरक्षा के लिए बने गाइडलाइंस

0

देशभर में स्कूली बच्चों की सुरक्षा को लेकर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला लिया है। सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को तीन महीने के अंदर सुरक्षा के दिशा-निर्देश तैयार करने का आदेश दिया है। आपको बता दें कि गुड़गांव के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में सात वर्षीय प्रद्युम्न की हत्या के बाद उसके पिता, विभिन्न संगठनों और वकीलों ने याचिका दायर कर मांग की थी कि देशभर के स्कूलों में सुरक्षा गाइडलाइंस बनें।

मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने माना कि याचिका की मांग के अनुसार तीन महीने में गाइडलाइंस बनाई जाए। इससे पहले कोर्ट ने केंद्र और राज्य सरकारों को अपना-अपना जवाब दाखिल करने को कहा था। आपको बता दें कि हरियाणा, कर्नाटक और हिमाचल प्रदेश अपना जवाब दाखिल कर चुके हैं।

पॉलिसी बनाने की मांग

दो महिला वकीलों आभा आर शर्मा और संगीता भारती ने बच्चों की सुरक्षा को लेकर पॉलिसी बनाने और देश में मर्डर और यौन उत्पीड़न से स्कूली छात्रों की सुरक्षा के लिए मौजूदा दिशा-निर्देशों को लागू करने की मांग की है।

यह था मामला

गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में 8 सितंबर 2017 को 7 साल के प्रद्युम्न हत्या कर दी गई थी। प्रद्युम्न की बॉडी स्कूल के टॉयलेट में मिली थी। इस मामले में पहले स्कूल के बस कंडक्टर अशोक को गिरफ्तार किया गया था। बाद में आरोपी स्कूल का ही 11वीं का एक छात्र निकला। इसके बाद कोर्ट ने 28 फरवरी को अशोक को बरी कर दिया था।

Share.