website counter widget

सरकारी पुस्तक में दावा गाँधीजी की मृत्यु दुर्घटना से हुई, छिड़ा विवाद

0

भुवनेश्‍वर: ओडिशा (Odisha News) में एक सरकारी किताब (Book) में राष्ट्रपिता महात्‍मा गांधी (Mahatma Gandhi) पर विवाद छिड़ गया है. इस किताब में दावा किया गया है कि महात्मा गांधी की मृत्यु ‘दुर्घटना’ के चलते हुई थी. राजनीतिक दलों के नेताओं और कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री नवीन पटनायक से माफी मांगने और इस ‘बड़ी भूल’ को तत्काल सुधारने को कहा है.महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर प्रकाशित दो पेज की किताब ‘आमा बापूजी: एका झलक’ में उनकी शिक्षाओं, उनके कार्यों और ओडिशा से उनके जुड़ाव की संक्षिप्त जानकारी दी गई है. इसमें दावा किया गया है कि गांधी जी का ‘दिल्ली के बिड़ला हाउस में 30 जनवरी, 1948 को अचानक हुए घटनाक्रम में दुर्घटना के चलते निधन हो गया’.पुस्तिका पर मचे बवाल के बीच पटनायक नीत सरकार ने यह पता लगाने के लिए जांच का आदेश दिया है कि स्कूल एवं जन शिक्षा विभाग ने ऐसी जानकारी प्रकाशित क्यों की. इस पुस्तिका को राज्य सरकार के स्कूलों और राज्य सरकार से सहायता प्राप्त स्कूलों में वितरित करने के लिए प्रकाशित किया गया था.

गांधी जी के बाद स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा पर छात्रों का गुस्सा

कांग्रेस के सीनियर नेता एवं पूर्व मंत्री नरसिंह मिश्रा ने कहा कि सरकार के प्रमुख होने के नाते मुख्यमंत्री को पुस्तिका में प्रकाशित गलत सूचना के लिए माफी मांगनी चाहिए. उन्होंने इस गलती को ‘अक्षम्य कृत्य’ बताया. कांग्रेस विधायक दल के नेता ने कहा, ‘पटनायक को इस बड़ी भूल की जिम्मेदारी लेनी चाहिए, माफी मांगनी चाहिए और पुस्तिका तत्काल वापस लेने के लिए निर्देश जारी करने चाहिए.’ मिश्रा ने बीजद सरकार पर गांधी जी से नफरत करने वालों का समर्थन करने का आरोप लगाते हुए कहा कि बच्चों को यह जानने का पूरा अधिकार है कि महात्मा गांधी की हत्या किसने की और उनकी हत्या किन परिस्थितियों में की गई. उन्होंने कहा, ‘राष्ट्रपिता से नफरत करने वालों को खुश करने के लिए उनके निधन की जानकारी इस प्रकार दी गई.’ और भी अन्य पार्टियों के नेताओं ने इस घटना पर ओडिशा सरकार की जमकर आलोचना की और इसपर सुधार करने के लिए कहा।

राजीव गांधी ने नहीं इसने खुलवाया था 1986 में राममंदिर का ताला

महात्मा गांधी नक्सलवादी थे ? जानिए क्यो हो रहा विरोध

-Mradul tripathi

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.