BHUJ की Hostel में क्यों उतरवाए गए लड़कियों के Inner Wear

0

एक ओर जहां सड़क से लेकर सोशल मीडिया (social media)  तक माहवारी को लेकर जागरूकता फैलाई जा रही है, वहीं आज भी कई जगह इसे एक टैबू माना जाता है। (Girls Take Off Clothes) ये कौन सा कॉलेज है जहां छात्राओं के साथ ऐसा किया जा रहा है अब तो हद हो गए आपने अभी तक सुना होगा की कॉलेज में गर्ल्स बॉयज की रैगिंग होती है लेकिन अब तो हद कर दी कॉलेज ने क्या आप लोगों को लगता है की अगर सेनेटरी पेड  (Sanitary Pad) कॉलेज में कहीं गन्दा पड़ा हुआ मिल जाए तो उन्हें पनिशमेंट देनी चाहिए या उनके कपडे उतरवाकर उनसे सबूत माँगना चाहिए कि वो बताए की ये सेनेटरी पैड किसका है पनिशमेंट ही देंगे ना और समझाएंगे ही ना की अगली बार ऐसा नहीं होना चाहिए लेकिन गुजरात   (Sanitary Pad Collage) का एक कॉलेज ऐसा है जहां समझाने की बजाय छात्राओं से कपडे उतरवाकर ये सबूत मांगा गया की उन्हें पीरियड्स है या नहीं और यह पूरी घटना गुजरात के सहजानंद गर्ल्स कॉलेज (Shree Sahajanand Girls Institute)  में हुई है |

Vadodara Gujarat Rain Videos : वासुदेव के जैसे पानी में बच्चे को ले जाते शख्स की Photo Viral

गुजरात के भुज (Bhuj In Gujarat)  में एक गर्ल्स हॉस्टल की 68 लड़कियों (68 Girls Gujarat) को माहवारी होने का ‘सबूत’ देने के लिए महिला टीचरों के सामने कपड़े उतारने पड़े।यह शर्मनाक घटना सहजानंद गर्ल्स इंस्टिट्यूट (Girls Take Off Clothes) की है। घटना सामने आने के बाद इसकी चौतरफा आलोचना हो रही है। एक लड़की ने कहा, ‘यह पूरी तरह मानसिक टॉर्चर है और हमारे पास इसे बताने के लिए शब्द नहीं हैं।’ उसने बताया कि कुल 68 लड़कियों को इस प्रिंसिपल के सामने इस टेस्ट से गुजरना पड़ा।पूरा मामले की आखिर शुरुआत हुई कहां से दरअसल पूरा विवाद तब शुरू हुआ जब सोमवार को हॉस्टल के गार्डन में एक इस्तेमाल किया हुआ सैनिटरी पैड पड़ा मिला। कॉलेज वॉर्डन को शक हुआ कि यह हॉस्टल की ही किसी लड़की ने किया होगा और इसे वॉशरूम की खिड़की से फेंका होगा। कॉलेज प्रशासन ने माहवारी को लेकर बनाए गए नियम-कायदों के उल्लंघन के ‘असली दोषी’ को ढूंढने के लिए तलाश शुरू कर दी। कॉलेज की प्रिंसिपल रीता रानीगा ( ने सभी लड़कियों को कॉमन एरिया में बुलाया और हॉस्टल (Hostel Girls Gujrat) के नियमों के बारे में खूब लेक्चर दिए उन्होंने लड़कियों से कहा कि वह खुद ही बता दें कि किसने सैनिटरी पैड फेंका था। दो लड़कियां सामने भी आ गईं लेकिन फिर भी उन्हें ये झूट लगा तो उन्होंने एक-एक कर लड़कियों को बाथरूम में बुलाया और उनके कपड़े उतरवाए।अब तो इन्होने कपडे उतरवादिये लेकिन अब लड़कियों (Girls Gujrat Sanitary Pad) के घरवालें FIR की तैयारी में है |

Gujarat के एक Constable का वर्दी में Video हुआ वायरल

एक लड़की (Girls Take Off Clothes) के पिता ने कहा, हम सभी नियम मानते हैं, मगर मेरी बेटी को इस तरह टॉर्चर करना बिल्कुल सही नहीं है। मुझे जब इस बारे में पता चला तो मैंने उससे बात की और उसने रोते हुए बस यही कहा कि मैं उसे यहां से ले चलूं।’ घटना के नाराज लड़कियों के मां-बाप अब कॉलेज प्रशासन और प्रिंसिपल रीता के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने पर विचार कर रहे हैं। बता दें कि माहवारी को लेकर हॉस्टल ने कड़े नियम बना रखे हैं। नियम के मुताबिक, जिस लड़की को पीरियड्स (Girls with periods) होंगे वह हॉस्टल में नहीं रहेगी। उसके लिए हॉस्टल के बेसमेंट में रहने की जगह बनी है। साथ ही वह लोगों से घुलेगी-मिलेगी नहीं। न ही किचन और पूजा स्थल में प्रवेश करेगी। इतना ही नहीं, इस दौरान उनके बर्तन भी अलग होंगे और पीरियड्स खत्म होने के बाद उन्हें धोकर रखना होगा। इसके अलावा पीरियड्स (Girls in periods) के दौरान लड़कियों को क्लास में सबसे पीछे बैठने का निर्देश है।एक तरफ देश में महावारी को लेकर जागरूक किया जा रहा है तो एक तरफ इस तरह से लड़कियों को टॉर्चर किया जा रहा है | ऐसी प्रिंसिपल (Should Principal be punished ?)  को सजा मिलनी चाइये या नहीं|

Girls Take Off Clothes In Bhuj Hostel | Latest News Gujarat

बता दें ये पहली बार नहीं हुआ है जब इस तरह की घटना गुजरात में हुई हो इसके पहले भी मध्यप्रदेश के सागर जिला स्थित डॉ. हरिसिंह गौर यूनिवर्सिटी (Dr. Harisingh Gaur University located in Sagar district)  का एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है. इस नामी विश्वविद्यालय के हॉस्टल में गंदा सेनेटरी पैड (dirty sanitary pads found) मिलने पर न सिर्फ छात्राओं की तलाशी ली गई, बल्कि इस दौरान उनके कपड़े भी उतरवा दिए गए. इस शर्मनाक घटना के बाद पीड़ित छात्राओं ने कुलपति को शिकायती पत्र सौंपा है, जिसमें उन्होंने घटना के बारे में बताते हुए हॉस्टल वार्डन और आउटसोर्सिंग वार्डन के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है.जानकारी के मुताबिक, 24 मार्च को डॉ. हरिसिंह गौर यूनिवर्सिटी के रानी लक्ष्मीबाई कन्या छात्रावास परिसर में इस्तेमाल किया हुआ गंदा सेनेटरी पैड मिला था. इस घटना से हॉस्टल वार्डन और आउटसोर्सिंग वार्डन (Hostel Warden and Outsourcing Warden) नाराज हो गईं. ये पता करने के लिए कि खुले में गंदा पैड किसने फेंका है, उन्होंने छात्राओं और उनके कमरों की तलाशी लेना शुरू कर दिया.कमरों की तलाशी तक सब ठीक रहा, लेकिन वार्डन इतने पर ही नहीं रुकीं और उन्होंने छात्राओं की तलाशी लेते हुए उन्हें कपड़े उतारने का फरमान सुना दिया. खुद को असहाय पाते हुए छात्राओं को ऐसा करना पड़ा| तो इस तरह की घटना होने पर कॉलेज (Gujarat Girls Remove Clothes) की टीचर्स के साथ कॉलेज की छात्राओं पर भी कार्रवाई होनी चाइये |

Girls Take Off Clothes In Bhuj Hostel | Latest News Gujarat

Gujarati Mehandi Designs :  फेस्टिव सीजन में ट्राई करें ये डिजाइन

Vagisha Pandey

Share.