website counter widget

शिवसेना के कारण कराह रहे होंगे बाला साहब!

0

महाराष्ट्र (Maharashtra ) की राजनीति में चल रहे दंगल के बीच सब कुछ उथल-पुथल हो गया है। सत्ता के लिए भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janata Party ) का साथ छोडने वाली शिवसेना (Shiv Sena ) को बड़ा झटका लगा है। उसे अब एनसीपी और कांग्रेस का समर्थन नहीं मिल पाया है। बीजेपी (BJP) और शिवसेना (Shiv Sena) की 30 साल पुरानी दोस्ती टूट गई है। अब इस मामले पर बीजेपी के फायरब्रांड नेता और और केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह (Union Minister Giriraj Singh) का बयान सामने आया है। उनका कहना है कि शिवसेना कि हरकतों के बाद बाला साहेब ठाकरे (Balasaheb Thackeray) कराह रहे होंगे।

फडणवीस, उद्धव से होते हुए अब सीएम का ताज़ पवार के पास

हिन्दू विरोधियों के साथ शिवसैनिक

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने एक फोटो शेयर की है। फोटो में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहार वाजपेयी, लालकृष्ण आडवाणी और बाला साहेब ठाकरे नजर आ रहे हैं। उन्होने ट्वीट में लिखा कि बाला साहेब के वर्षों की तपस्या ने सनातनियों को महाराष्ट्र में एक उम्मीद और पहचान दिया। आज हिंदुत्व विरोधियों के साथ जाता देख बाला साहेब और शिवसैनिक कराह रहे होंगे। इतिहास गवाही देगा कि कैसे बाला साहेब ने सबको एक किया और कुछ ने सबको बिखेर दिया।

महाराष्ट्र में जानिए किस पार्टी के लिए क्या हैं अब विकल्प

महाराष्ट्र में शिवसेना को एनसीपी और कांग्रेस ने बड़ा झटका दिया है। महाराष्ट्र चुनाव में बीजेपी के 105 विधायक चुनाव जीतकर बड़ी पार्टी बनने के बाद भी सरकार बनाए में नाकाम रहे। इसके बाद शिवसेना भी सरकार बनाने का दावा नहीं कर पाई। शिवसेना ने बीजेपी के सामने 50-50 फॉर्मूले की मांग रखी थी, जिसे बीजेपी ने मना कर दिया था। वहीं अब मौका एनसीपी के पास है। एनसीपी को भी सरकार बनाने के कांग्रेस और शिवसेना के समर्थन कि जरूरत होगी। एनसीपी के पास आज (मंगलवार) रात 8.30 बजे तक अपना दावा पेश करने का मौका है। एनसीपी अपनी सहयोगी कांग्रेस के समर्थन के साथ राज्यपाल के पास जा सकती है, लेकिन शिवसेना एक बार धोखा मिलने के बाद एनसीपी को समर्थन देती है या नहीं यह बात साफ नहीं हो पाई है।

एक फोन कॉल ने कर दिया शिवसेना का प्लान फेल

    – Ranjita Pathare 

ट्रेंडिंग न्यूज़
[yottie id="3"]
Share.