जॉब छोड़ते ही दो दिन में हो जाएगा फुल एंड फाइनल सेटलमेंट

0

जब भी कोई व्यक्ति किसी कंपनी को छोड़ता है तो उसका फुल एंड फाइनल सेटलमेंट यानि एफएनएफ (FNF) होने में 1 से डेढ़ माह का समय लगता है। मतलब जॉब छोड़ने के बाद FNF के लिए कम से कम एक माह का इंतजार करना पड़ता है। लेकिन अब किसी भी कर्मचारी को जॉब छोड़ने पर FNF के लिए ज्यादा इंतजार नहीं करना पड़ेगा। अब जॉब छोड़ने के 2 दिन बाद ही कंपनी को FNF करना होगा। नए वेज कोड 2019 के लागू होते ही ( Full And Final ) का यह नियम भी बदल जाएगा। गौरतलब है कि यह वेज कोड सरकार की तरफ से 8 अगस्त को अधिसूचित किया गया था। मौजूदा समाय में 1936 का पेमेंट ऑफ वेज एक्ट लागू है। इस एक्ट में कंपनियों के लिए फुल एंड फाइनल सेटलमेंट के लिए कोई भी समयसीमा निर्धारित नहीं की गई है।

सबसे फायदेमंद योजना 2020 से हो रही है बंद, जल्द उठाएं लाभ

इसी वजह से कई बार कर्मचारियों को नौकरी छोड़ने के बाद फुल एंड फाइनल सेटलमेंट कराने में एक से 3 माह तक का समय लग जाता है। हालांकि अब नया वेज कोड लागू हो जाने के बाद किसी भी कर्मचारी को नौकरी छोड़ने के बाद इतना लंबा इंतजार नहीं करना होगा। इस कोड के बाद कंपनी किसी कर्मचारी को खुद निकालती है या कर्मचारी कंपनी से त्यागपत्र देता है या फिर किन्ही कारणों के चलते कंपनी बंद हो जाती है तो कंपनी को दो दिवस के भीतर ही कर्मचारी का फुल एंड फाइनल सेटलमेंट करना होगा। इस नए वेज कोड का फायदा असंगठित क्षेत्रों में काम करने वाले कर्मचारियों को भी मिलेगा। ( Full And Final ) दोनों सदनों में इस बिल को पास किया जा चुका है हालांकि इसे कब से लागू किया जाएगा यह सरकार द्वारा स्पष्ट नहीं किया गया है।

बिहार के सीएम नीतीश कुमार लापता

फिलहाल इस नए वेज कोड के ड्राफ नियमों को श्रम मंत्रालय ने अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर अपलोड कर दिया है। अब इन नियमों पर स्टेकहोल्डर और आम जनता से सुझाव मांगे गए हैं। ( Full And Final ) गौरतलब है कि वेज कोड बिल 2019 को लोकसभा में 30 जुलाई को पास किया गया था जबकि इसके बाद 2 अगस्त को इस बिल को राज्यसभा में भी पास कर दिया गया था। अब इस नियम के लागू हो जाने के बाद कर्मचारियों को वेतन भुगतान में विलंब का मुद्दा भी हल हो जाएगा।

नागरिकता कानून पर पीएम मोदी की कांग्रेस को चुनौती

Prabhat Jain

Share.