जानिए देश को मजबूत बनाने वाले पूर्व वित्त के परिवार में कौन, क्या करता है?

0

पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली के निधन (Senior BJP leader Arun Jaitley Passes Away ) के बाद राजनीतिक जगत में शोक का मातम है। भारतीय राजनीति (Indian politics) में अलग पहचान बनाने वाले अरुण जेटली का राजनीतिक सफर छात्र के तौर पर ही शुरू हो गया था। जेटली (Arun Jaitley) का 67 साल की उम्र में निधन हो गया। उनका जन्म 28 सितंबर सन् 1952 को दिल्ली में हुआ था। उनके पिता महाराज किशन जेटली (Maharaj Kishan Jaitley) भी वकील थे। क्या आप जानते हैं देश कि आर्थिक हालत मजबूत करने और भारत की तरक्की के लिए जी जान एक करने वाले पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली के परिवार में कौन क्या करता है?

Today Cartoon : ज़मी का हिसाब आसमान पर

परिवार में सभी वकील

24 मई सन् 1982 को अरुण जेटली का विवाह संगीता जेटली से हुआ था। उनके दो बच्चे हैं। एक बेटा और एक बेटी, बेटे का नाम रोहन है तो बेटी का नाम सोनाली है। जैसे अरुण जेटली (Arun Jaitley) के पिता वकील थे, वे भी वकील थे वैसे ही उनके दोनों बच्चे भी वकील ही हैं।

एडीआर से मिली जानकारी के अनुसार, अरुण जेटली करीब 111 करोड़, 66 लाख की संपत्ति के मालिक थे। चुनाव आयोग को 2018 में दिए गए शपथ-पत्र के अनुसार अरुण जेटली के पास करीब 10 लाख और उनकी पत्नी के पास 5 लाख रुपए का कैश था। इसके अलावा दोनों के पास 8 बैंक खातों में करीब 19 करोड़ रुपए का बैंक डिपोजिट है।

ऐसा रहा अरुण जेटली का कानूनी करियर

Today Cartoon : श्रद्धांजलि श्री अरुण जेटली

अरुण जेटली (Arun Jaitley) एक कामियाब वकील रहे हैं। देश में लगे आपातकाल के बाद से ही उन्होंने वकालत शुरू कर दी थी। देश के कई हाईकोर्ट में अपनी तैयारी पूरी की और वर्ष 1990 में वह सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील नियुक्त हुए। बोफोर्स घोटाले से जुड़ी जांच की जरूरी कागजी कार्रवाई जेटली ने ही पूरी की थी।

नोटबंदी में निभाई थी अहम भूमिका

अरुण जेटली ने नोटबंदी के समय अहम भूमिका निभाई थी।  2006 में जेटली पहली बार राज्यसभा सांसद बने। इसके बाद वर्ष 2009 में वे राज्यसभा के विपक्ष के नेता चुने गए। मई 2014 में जेटली राज्यसभा में सदन के नेता बने थे, इसके बाद वे वित्त मंत्री बने। आज उनके जाने के बाद देश के लिए उनके योगदान को याद किया जा रहा है।

 

 

Share.