उन्नाव रेप पीड़िता जब तक होश में रही बिलख कर कहती रही…

0

देश में रही वारदातों को देखकर लगता है की अब इंसानियत रह ही नहीं गई कही जानवरो के दुःख को समझने वाली महिला डॉक्टर इंसानो को नहीं समझ पाई तो कही पीड़िता एक किलोमीटर तक जलती हुई दौड़ती जाती है जी हाँ उन्नाव गैंगरेप (Unnao Gang Rape) पीड़िता का सफदरजंग अस्तपाल (Safdarjung Hospital) में इलाज जारी है. लगातार हालत बिगड़ने पर अस्पताल के डॉक्टरों ने उसे वेंटीलेटर (Ventilator) पर रखा है. सात डॉक्टरों की टीम पीड़ित युवती की निगरानी कर रही है. सफदरजंग अस्पताल के मेडिकल सुपरिटेंडेंट डॉ. सुनील गुप्ता ने बताया कि कल (गुरुवार) रात पीड़िता को थोड़ी देर के लिए होश आया था. जिसमे उसने (Unnao Gangrape Victim) बस एक ही बात कही- ‘मैं बच तो जाउंगी, दोषियों को छोड़ना नहीं.’ इसके बाद से लगातार उसकी हालत गिरती जा रही है.

Hyderabad Police Press Conference : कमिश्नर सज्जनार ने बताई एनकाउंटर की सच्चाई

जानकारी के अनुसार डॉ. सुनील गुप्ता ने बताया कि गुरुवार देर शाम पीड़िता यूपी के लखनऊ से एयर एंबुलेंस के जरिए दिल्ली लाया गयी थी. अस्पताल पहुंचने पर तुरंत ही सात डॉक्टरों की टीम ने उसका (Unnao Gangrape Victim) इलाज शुरू कर दिया था. बर्न डिपार्टमेंट के हेड डॉ.शलभ की देखरेख में पीड़िता का इलाज चल रहा है. रात नौ बजे तक वो होश में रही. होश् में रहने के दौरान वो बस एक ही लाइन बोली कि मैं बच तो जाउंगी, लेकिन दोषियों को छोड़ना नहीं.

Hyderabad Encounter Videos : देखें एनकाउंटर स्थल  के Videos

उन्होंने कहा कि सही बात तो ये है कि इस तरह के केस में शुरुआत के 48 से 72 घंटे बहुत अहम होते हैं, हालत हर घंटे हालत बदलती है, अभी पीड़िता की भी हालत नाजुक बनी हुई है. शुक्रवार सुबह 11 बजे सफदरजंग अस्पताल के मेडिकल सुपरिटेंडेंट डॉ. सुनील गुप्ता ने बयान जारी कर कहा कि पीड़िता के बचने के चांस बहुत कम हैं. उसकी बिगड़ती हालत को देखते हुए उसे अब वेंटीलेटर पर लिया गया था. वहीं सूत्रों की मानें तो पीड़ित युवती के कमर से नीचे के दो अंदरूनी अंग भी आग की चपेट में आ गए हैं. जिसके चलते पीड़िता की हालत लगातार बिगड़ रही है.

Hydrabad encounter: पुलिसवालों को गोद में उठाया, बरसाए फूल, बांधी राखी, देखें VIDEO

-Mradul tripathi

Share.