10 पेड़ लगाओ, 1 पेड़ काटने की अनुमति पाओ

0

पेड़ों से हरियाली बढ़ती है, मानव का जीवन बढ़ता है, लेकिन शहरीकरण की आड़ में तेजी से पेड़ काटे जा रहे हैं। अब जब प्रकृति खतरे में आ गई है। तब पेड़ों की कटाई रोकी जा रही है। पेड़ों को कटने से बचाने के लिए कई तरह के प्रयास किए जा रहे हैं। अब ऐसा ही प्रयास उत्तरप्रदेश की योगी सरकार (Yogi government of Uttar Pradesh ) द्वारा भी  किया जा रहा है। सीएम योगी एक नई योजना लेकर आए हैं , जिसके अंतर्गत यदि आपको एक पेड़ काटना है तो इसके लिए पहले 10 पेड़ लगाने होंगे।

कर्नाटक में कांग्रेस की हार के बाद सिद्धारमैया का इस्तीफा

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने पर्यावरण प्रदूषण को नियंत्रित करने (Controlling Environmental Pollution ) के लिहाज से भी अहम फैसले लेने शुरू कर दिये हैं । यूपी में हुई कैबिनेट की बैठक (UP Government Cabinet Meeting ) में यूपी के 14 शहरों में इलेक्ट्रिक बसें चलाने का प्रस्ताव पास हुआ है। इसके साथ ही यह प्रस्ताव भी पास किया गया है कि एक पेड़ काटने की अनुमति उसी को मिलेगी, जो पहले दस पेड़ लगाए और जो इसका पालन नहीं करेगा उसे सख्त सजा दी जाएगी।

नेशनल होम्योपैथी सेमिनार में मरीज़ों ने सुनाया अपना अनुभव

बताया जा रहा है की यूपी सरकार की प्रदूषण पर मुक्ति पाने और पेड़ों को कटने से बचाने की योजना पीपीपी मॉडल पर आधारित है। यूपी के 14 शहरों में इलेक्ट्रिक बसें चलाने के संबंध में कैबिनेट से एक प्रस्ताव पास हुआ है। इन बसों के चलाने पर सालाना ढाई सौ करोड़ रुपए खर्च होंगे, लेकिन इससे काफी हद तक प्रदूषण से भी मुक्ति मिलेगी। जिन शहरों में इन बसों का संचालन किया जाएगा उनमें लखनऊ, मेरठ, प्रयागराज, आगरा, गाजियाबाद, मुरादाबाद, गोरखपुर, अलीगढ़, झांसी, बरेली, शाहजहांपुर, मथुरा और वृंदावन का नाम शामिल है। सरकार ने आदेश सुना दिया है कि आम, देसी नीम, साल, महुआ जैसे पर्यावरण के लिए आवश्यक 29 वृक्षों को काटने की अनुमति तभी मिलेगी, जब 10 पेड़ लगाएंगे, नहीं तो एक भी पेड़ नहीं काट सकते। यदि पेड़ लगाने के लिए किसी के पास भूमि नहीं है तो इसके लिए वे वन विभाग की भूमि पर पेड़ लगा सकते हैं।

 

कैलाश बनेंगे बंगाल के मुख्यमंत्री, ममता के मंत्री बीजेपी में शामिल!  

      – Ranjita Pathare 

 

Share.