केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर के खिलाफ FIR दर्ज

0

राजधानी दिल्ली में भड़काऊ भाषण देने वाले भारतीय जनता पार्टी के नेता अनुराग ठाकुर (FIR Against Anurag Thakur), प्रवेश वर्मा (Parvesh Verma) और कपिल मिश्रा के खिलाफ कार्रवाई करने का आदेश देने वाले दिल्ली हाई कोर्ट के जज एस मुरलीधर का रातों रात तबादला कर दिया गया। हालांकि इसके बाद भी केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर (Anurag Thakur) की मुश्किलें कम नहीं हुईं। दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 के दौरान भड़काऊ भाषण (Hate Speech) देने वाले भाजपा नेता अनुराग ठाकुर (Anurag Thakur) के खिलाफ मानवाधिकार कार्यकर्ता सुनील मोहन जेटली (Sunil Mohan Jaitley) ने छोटा शिमला थाने (Chota Shimla Police Station) में शिकायत की है। इस मामले में उन्होंने जीरो एफआईआर (Zero FIR) दर्ज करने की शिकायत दर्ज करवाई है। इस बात की पुष्टि शिमला के एसपी (SP Shimla) ओमापति जम्वाल (Ompati Jamwal) ने की है। उन्होंने बताया कि उन्हें फ़ोन पर शिकायत मिली है।

BJP विधायक Ramesh Mendola ने कहा- कमलनाथजी म.प्र. को इटली मत बनने दीजिए

मिली (FIR Against Anurag Thakur) जानकारी के अनुसार शिमला के छोटा शिमला थाने में मामला दर्ज करने की शिकायत की गई है। इतना ही नहीं इस शिकायत पत्र के साथ-साथ दिल्ली हाईकोर्ट के आदेशों की कॉपी भी लगाई गई है। इस मामले में मानवाधिकार कार्यकर्ता सुनील मोहन जेटली (Sunil Mohan Jaitley) का कहना है कि हाल ही में दिल्ली में हुए दंगों (Delhi Riots) में 45 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। उन्होंने कहा कि इन दंगों के लिए जिम्मेदार लोगों पर अब तक कोई भी कार्रवाई नहीं की गई है जबकि दिल्ली हाई कोर्ट भी इसके लिए निर्देश जारी कर चुका है। मीडिया से बात करते हुए सुनील मोहन जेटली ने कहा कि केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर (Anurag Thakur) काफी लोकप्रिय नेता है और एक रोल मॉडल हैं इसलिए उनके भाषण से युवाओं में खास प्रभाव पड़ा।

BJP विधायक और उसके 6 परिजनों पर महिला ने लगाया दुष्कर्म का आरोप

गौरतलब है कि दिल्ली विधानसभा चुनाव (FIR Against Anurag Thakur)  के दौरान केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर (Anurag Thakur) ने रिठाला में अपनी एक चुनावी सभा में भड़काऊ नारे लगवाए थे। उनके इस भड़काऊ नारों के लिए दिल्ली हाई कोर्ट ने सख्त टिप्पणी करते हुए ऐसे भड़काऊ भाषण देने वाले नेताओं के खिलाफ FIR दर्ज करने के आदेश भी जारी किए थे। इस मामले में अनुराग ठाकुर के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाने वाले मानवाधिकार कार्यकर्ता सुनील मोहन जेटली (Sunil Mohan Jaitley) का कहना है कि दिल्ली में हुए दंगों के दौरान वे रास्ता भटक गए और एक दंगा प्रभावित इलाके में पहुंच गए थे। जब उन्होंने दंगों का वह खौफनाक मंजर देखा तो वे काफी विचलित हो गए थे। इसलिए वे चाहते हैं कि इन दंगों के लिए जो भी जिम्मेदार हैं उन सभी दोषियों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए। इसी वजह से उन्होंने अनुराग ठाकुर के खिलाफ जीरो FIR की शिकायत छोटा शिमला थाने में दी है। वहीँ सुनील ने कहा कि पुलिस के पास कोई अधिकार नहीं है कि वह मुकदमा दर्ज करने से इनकार कर सके। उन्होंने कहा कि उन्होंने गृह मंत्रालय के उन आदेशों की कॉपी भी अपनी शिकायत के साथ लगाई है जिसमे यह आदेश दिया गया है कि संज्ञेय अपराध के मामले पर पुलिस FIR दर्ज करने के लिए बाध्य है। इस मामले में शिमला के SP ओमापति जम्वाल (Ompati Jamwal) ने कहा कि उन्हें शिकायत पत्र है हालांकि वे कैमरे के सामने कुछ भी बोलने से बचते नज़र आए।

BJP का प्रचार करने पर सपना को लोगों ने दिया Shocking जवाब

Prabhat Jain

Share.