प्रणब मुखर्जी के भाषण के बाद से बढ़ी रुचि

0

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने नागपुर स्थित राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के हेडक्वार्टर में एक कार्यक्रम में स्वयंसेवकों को संबोधित किया था। प्रणब मुखर्जी का आरएसएस के कार्यक्रम में जाना काफी लोगों को पसंद नहीं आया था। कई दिनों तक यह राजनीतिक गलियारों में चर्चा का विषय था।

उस भाषण के बाद से आरएसएस ज्‍वाइन करने वाले आवेदनों की संख्‍या में तकरीबन चार गुना इजाफा हुआ है। मुखर्जी के गृह राज्य पश्चिम बंगाल में संगठन में शामिल होने का अनुरोध करने वाले लोगों की संख्या में सबसे ज्यादा वृद्धि देखने को‍ मिली है।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ नेता बिप्लब रॉय ने कहा कि नागपुर में सात जून को मुखर्जी के भाषण के बाद संगठन में शामिल होने के लिए संघ को लोगों की तरफ से कई आवेदन मिले हैं। रॉय ने संवाददाताओं से कहा, ”एक जून से छह जून के बीच औसतन हमें हमारी वेबसाइट ‘ज्वाइन आरएसएस’ पर राष्ट्रीय स्तर पर रोजाना 378 अनुरोध प्राप्त होते थे। सात जून को हमारे शिक्षा वर्ग को मुखर्जी के संबोधित करने के बाद से हमें 1779 आवेदन मिले हैं। सात जून के बाद हमें रोजाना 1200-1300 अनुरोध मिल रहे हैं।” उन्होंने कहा कि इसमें से 40 फीसदी अनुरोध बंगाल से आए हैं|

Share.