नहीं हुआ था बच्ची के साथ दुष्कर्म

0

जम्मू कश्मीर के कठुआ जिले में बच्ची के साथ हुए दुष्कर्म के मामले में नया खुलासा हुआ है| पीएम रिपोर्ट के अनुसार, बच्ची का दुष्कर्म नहीं हुआ था, उसके शरीर पर चोट के निशान मिले हैं| बताया जा रहा है कि दुष्कर्म के लिए पेश किए गए दस्तावेज और पीएम रिपोर्ट के तथ्य आपस में मेल नहीं खाते हैं|वहीं दिल्ली से आई एक रिपोर्ट में दुष्कर्म होना बताया गया है|

कठुआ जिला अस्पताल के मेडिकल सुपरिटेंडेंट ने दो पीएम रिपोर्ट भेजी हैं| ये दोनों रिपोर्ट अलग-अलग डॉक्टरों की हैं और दोनों में ही बच्ची के साथ दुष्कर्म होना नहीं बताया गया है| पहली रिपोर्ट में कहा गया है कि बच्ची के शरीर पर छह जख्म हैं, जबकि दूसरी रिपोर्ट में सात जख्मों का जिक्र है| एक जख्म कान के पास लगभग दो सेमी है|

वहीं मामले पर दिल्ली की लैब में हुए फॉरेंसिक टेस्ट की रिपोर्ट कुछ और ही सबूत पेश कर रही है| इस टेस्ट रिपोर्ट में यह साफ–साफ़ बताया गया है कि बकरवाल समुदाय की आठ साल की बच्ची के साथ सामूहिक दुष्कर्म की घटना को जम्मू के रसाना गांव के देवस्थल में ही अंजाम दिया गया था| रिपोर्ट में बच्ची को नशे की दवाई दिए जाने की बात भी सही पाई गई है| तीनों रिपोर्ट में अंतर की वजह से मामला और उलझ गया है|

मामले पर जम्मू-कश्मीर के डिप्टी सीएम निर्मल सिंह ने शुक्रवार को बड़ा बयान दिया है| उन्होंने इस मामले को अंतरराष्ट्रीय साजिश करार देते हुए कहा है कि फास्ट ट्रैक कोर्ट का फैसला आने के बाद दो मंत्रियों ने नैतिक तौर ही इस्तीफा दे दिया है|

Share.