Delhi Nirbhaya case: निर्भया के दरिंदों का होगा अंगदान  ?

0

दिल्ली : आज निर्भया मामले ( Delhi Nirbhaya Case ) को सात साल हो गए हैं , लेकिन अभी तक सभी दरिंदों को फांसी पर नहीं लटकाया गया। अब इस मामले पर कार्रवाई तेज कर दी गई है।  कहा जा रहा है कि सभी आ आरोपियों कि फांसी के फैसले पर भी जल्द ही  फैसला आ जाएगा, लेकिन उससे पहले  ही  अंगदान की बात सामने आई है। सूत्रों का कहना है कि निर्भया के चारों दरिंदे फांसी से पहले अंगदान (Nirbhaya case all four convitcs donate organs ) के लिए अपनी सहमति देने वाले हैं।

#KabTakNirbhaya: 16 दिसंबर की काली रात का इंसाफ अभी भी बाकी है

क्या होगा अंगदान ?

निर्भया ( Delhi Nirbhaya Case ) के चारों दोषियों को गुप्त अंगदान कराने के लिए एक संस्था ने तिहाड़ जेल प्रशासन को पत्र लिखकर सभी चार दोषियों में से पवन, मुकेश, अक्षय और विनय से मिलने की मांग की है, लेकिन अभी  तक दोषियों कि ओर से हामी नहीं भरी गई। अंगदान के लिए भेजे गए पत्र में लिखा है कि निर्भया के दोषियों के लिए ये अंतिम मौका होगा जब वो फांसी के तख्ते पर चढ़ने से पहले मानवता के लिए गुप्त अंगदान करे, ताकि कई जरूरत मन्द लोगो को अंग मिल सके। इसके साथ ही  यह  भी  लिखा है कि ऋषि दधीचि की परंपरा का अनुसरण करते हुए एक प्रतिनिधि मंडल जेल में निर्भया के दोषियों से मिलकर उन्हें देहदान या अंगदान के लिए प्रेरित करना चाहते हैं। अब जेल में बन्द आरोपियों पर निर्भर करता है कि वे अंगदान करना चाहते हैं या नहीं।

नागरिकता कानून पर दिल्ली से लंदन तक मचा बवाल

वहीं सूत्रों का यह भी कहना है कि मुजरिमों को फांसी चढ़ाने वाले संभावित जल्लादों में सबसे आगे चल रहे यूपी के मेरठ शहर निवासी पुश्तैनी जल्लाद पवन कुमार को जेल अफसरों ने तमाम हिदायतें देनी शुरू कर दी हैं। ( Delhi Nirbhaya Case )जल्लाद पवन ने शनिवार को कहा था कि अब मैं मोबाइल पर या फिर मीडिया से तब तक ज्यादा बात नहीं करूंगा, जब तक निर्भया हत्याकांड के चारों मुजरिमों की मौत की सजा पर कोई अंतिम फैसला नहीं आ जाता। इसके बाद उन्हें अब जेल प्रशासन द्वारा भी  कहा गया है कि वे इस मुद्दे पर ज्यादा न बोले।

भारतीय जनता पार्टी ने दिया राहुल गांधी को नया नाम

          – Ranjita Pathare 

Share.