website counter widget

खुलासा, ब्लैकमेलिंग के कारण DCP Vikram Kapoor ने दी जान

0

डीसीपी विक्रम कपूर की आत्महत्या (DCP Vikram Kapoor’s suicide)  के मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। डीसीपी ने आज यानि बुधवार सुबह अपने सरकारी आवास पर खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली। उस समय उनका परिवार भी घर में ही था। जांच में खुलासा हुआ है कि विक्रम कपूर ने ब्लैकमेलिंग के कारण आत्महत्या की (DCP Vikram Kapoor Shoots Himself Due To Blackmailing) । पुलिस को मौके पर मिले सुसाइड नोट के आधार पर यह बात कही जा रही है।

नरेंद्र मोदी को नोबेल पुरस्कार!

जानकारी के अनुसार (DCP Vikram Kapoor Shoots Himself Due To Blackmailing), पुलिस को डीसीपी (एनआईटी) विक्रम कपूर (59) का सुसाइड नोट मिला है, जिसमें उन्होंने लिखा है कि एक इंस्पेक्टर उन्हें ब्लैकमेल कर रहा था। वहीं पुलिस विभाग ने इस मामले पर कोई भी टिप्पणी करने से इंकार कर दिया है। विक्रम कपूर मूलरूप से अंबाला के रहने वाले थे। वे  हरियाणा पुलिस में सहायक उप निरीक्षक भर्ती हुए थे। विभागीय पदोन्नति से वह इस पद पर पहुंचे थे। वह करीब दो साल से फरीदाबाद में पदस्थ थे। उनकी पत्नी ने बताया कि वे पिछले काफी समय से परेशान चल रहे थे, लेकिन किसी बात का जिक्र नहीं किया।

आतंकियों के निशाने पर हिंदुस्तान का सबसे स्वच्छ शहर इंदौर!

डीसीपी (DCP Vikram Kapoor Shoots Himself Due To Blackmailing) के परिवार वालों के अनुसार, आज यानि बुधवार सुबह 6 बजे के आसपास वे ड्राइंग रूम में सोफे पर बैठे थे। तभी उन्होने सर्विस रिवाल्वर मुंह में डालकर ट्रिगर दबा दिया। उस समय उनकी पत्नी बाथरूम में थी। गोली कि आवाज़ सुनकर वो बाहर आई और पति को खून से लथपथ देखकर शोर मचाया। इसके बाद बेटा अर्जुन सुकर उठा। सेक्टर 31 में पुलिस लाइंस के जिस आवास पर कपूर ने आत्महत्या की है, वहां की तलाशी ली जा रही है।

पाकिस्तान ने रची थी अभिनंदन को मारने की साजिश!

विक्रम कपूर के परिवार में दो बेटे और पत्नी हैं। उनका एक बेटा पंचकूला में रहता है, जबकि दूसरा बेटा उनके साथ ही रहता था। उन्होंने बुधवार सुबह करीब 6.00 बजे मॉर्निग वॉक से लौटने के बाद खुद को गोली मार कर आत्महत्या कर ली।

 

Summary
Review Date
Author Rating
51star1star1star1star1star
ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.