अदालत ने माना, दुष्कर्मी है आसाराम

0

जोधपुर जेल में बंद आसाराम को जोधपुर कोर्ट ने नाबालिग से दुष्कर्म के मामले में दोषी करार दे दिया है| इस मामले में सभी आरोपियों को सज़ा दी जाएगी| आसाराम को पांच मामलों में दोषी बताया गया है| अदालत ने उसे दुष्कर्मी कहते हुए फैसला सुनाया| इस मामले में अभी सज़ा का ऐलान नहीं किया गया है|

बताया जा रहा है कि जोधपुर कोर्ट के जज मधुसूदन शर्मा, वकील और अन्य अधिकारी सेंट्रल जेल पहुंचे और सजा पर सुनवाई हुई| यह सुनवाई जेल में बैरक नंबर दो के पास बने बैरक में हुई| सुनवाई के पहले ही पूरे देश में खासकर जोधपुर में सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए जा चुके हैं|

आसाराम के केस को लेकर आए इस फैसले से उनके समर्थक काफी निराश हैं| गौरतलब है कि आसाराम ने जब पीड़िता को धमकाया था, तब उसने दिल्ली जाकर 20 अगस्त, 2013 को कमला नगर पुलिस थाने में एफआईआर दर्ज कराई थी| वहां से मामला जोधपुर पहुंचा था| जोधपुर पुलिस ने 31 अगस्त, 2013 को मध्यप्रदेश के इंदौर से आसाराम को गिरफ्तार किया था, तब से वह जेल में है|

आसाराम के अलावा शतरचंद और शिल्पी को भी दोषी करार दिया गया है, वहीं शिव और प्रकाश को बरी कर दिया गया है| आसाराम के वकीलों ने उम्र का हवाला देते हुए सज़ा में नर्मी की अपील की है|

आसाराम पर फैसले के बाद कांग्रेस नेता अशोक गहलोत ने कहा कि “ जनता करे असली और  धोखेबाज साधु-संतों की पहचान|”  पीड़िता के पिता ने कहा, “न्याय की जीत हुई, अब आरोपियों को कड़ी सज़ा मिलनी चाहिए|” सजा पर अभी भी अदालत में बहस चल रही है|

Share.