क्या विकसित राष्ट्र अमेरिका की तरह ही भारत में बढ़ेंगे आंकड़े

0

दुनिया के कई देश कोरोना वायरस(Coronavirus Cases In India) की चपेट में है। ऐसे में जब इसका कहर शुरु हुआ था तब अमेरिका ने कई तरह की सावधानियों को रखकर इसे नियंत्रण में लाने की कोशिश की थी। टीका बनाने की पहल भी अमेरिका में ही शुरु हुई थी। लेकिन आज कोरोना वायरस के सबसे ज्यादा संक्रमित मरीज अमेरिका में हैं। वहीं एक ऐसी खबर भी सामने आई है जिसने पूरी दुनिया को डरा दिया है। इटली के बाद अमेरिका दूसरा ऐसा देश बना है जिसमें एक दिन में सबसे ज्यादा मौतें हुई हैं।अमेरिका में कोरोना वायरस के कारण 24 घंटे में 1400 से ज्यादा मौतें दर्ज की गई हैं।

अमेरिका में कोरोना वायरस के कारण संक्रमित लोगों का आंकड़ा 3 लाख के करीब पहुंच रहा है। यह आंकड़ा विश्व में अब तक सबसे ज्यादा है। वहीं दुनिया में 24 घंटे में हुई सबसे ज्यादा मौतें अमेरिका में दर्ज होने से भी सवाल पैदा होने लगा है कि जब सबसे विकसित और शक्तिशाली देश कोरोना से नहीं लड़ पा रहा है, तो फिर दूसरे छोटे देशों का क्या होगा?
अमेरिका की जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी(Johns Hopkins University) ट्रैकर के मुताबिक देश में 24 घंटे में कोरोना वायरस के कारण रिकॉर्ड 1480 मौतें दर्ज की गई हैं। दुनिया में कोरोना वायरस के कारण 24 घंटे में हुईं ये अब तक की सबसे ज्यादा मौतें हैं।
अमेरिका में कोरोना वायरस के कारण अब तक 2.70 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं। वहीं अमेरिका में कोरोना वायरस के कारण मौत का आंकड़ा 7406 पहुंच गया है। जबकि करीब 12 हजार लोगों का इलाज भी हो चुका है।
जबकि दुनिया में कोरोना वायरस(Coronavirus Patient Count) के कारण करीब 11 लाख लोग संक्रमित हो चुके हैं। इसके अलावा 59 हजार से ज्यादा लोगों की कोरोना वायरस के कारण मौत भी हो चुकी है।
ऐसे में अमेरिका में सामने आ रहे मौत के आंकड़ों ने भारत को डरा दिया है। तमाम इंतजामों के बावजूद भारत में कोरोना के आंकड़े लगातार बढ़ रहे हैं। हालांकि अमेरिका की तुलना में भारत में मौत की संख्या अभी कम ही है, लेकिन जिस गति से कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं भारत के सामने भी यह संकट खड़ा हो गया है कि इस जंग में भारत कहीं पस्त ना हो जाए।
कोरोना से बचने के लिए भारत में अभी केवल लाॅक डाउन और सावधानी ही बरती जा रही है, लेकिन इसके इलाज और दूसरी व्यवस्थाओं को लेकर दुनिया के दूसरे देशांे की तरह भारत भी मजबूर ही है।
वहीं भारत में कोरोना के अलावा भूखमरी, गरीबों का व्यवसाय ठप होने जैसी दूसरी समस्याएं भी सामने आने लगी है(Coronavirus Cases In India)। यदि यह लाॅक डाउन(Lockdown Extension) आगे बढ़ता है तो भारत को ऐसी कई दूसरी तकलीफों का भी सामना करना पड़ सकता है, जो कि कोरोना से भी ज्यादा भारी होगा।

-Rahul Kumar Tiwari

मोदी के सन्देश के बाद स्वरा भास्कर पैसे निकाल का जुलुस निकला ट्विटर पर

मोदी मदारी बन जनता को बन्दर बनाकर दौड़ा रहे

दिल्ली की निजामुद्दीन घटना पर बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय का बयान

Share.