राहुल गांधी की टीम ने नहीं दी दिग्विजय को जगह

0

कांग्रेस पार्टी ने अपनी वर्किंग कमेटी के सदस्यों के नामों का ऐलान किया है| इस नई कमेटी में पार्टी के कई बड़े चेहरों को पदमुक्त कर दिया गया है| वर्किंग कमेटी में करीब 12 नए सदस्यों को जगह मिली है| अपनी नई टीम में  राहुल ने अनुभवी और युवा नेताओं के बीच संतुलन बनाने की कोशिश की है| हालांकि इस कमेटी में दिग्विजयसिंह और कमलनाथ जैसे वरिष्ठ नेताओं को जगह नहीं दी है| वहीं यह भी सच है कि इस कमेटी में मध्यप्रदेश से कोई नेता शामिल नहीं है|

पार्टी के संगठन महासचिव अशोक गहलोत के मुताबिक कमेटी में 23 सदस्य, 19 स्थायी आमंत्रित सदस्य और 9 आमंत्रित सदस्य शामिल किए गए हैं| खबर है कि राहुल गांधी ने 22 जुलाई को वर्किंग कमेटी की पहली बैठक बुलाई है| इस बार 23 सदस्यीय वर्किंग कमेटी में राहुल गांधी, सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहनसिंह, मोतीलाल वोरा, गुलाम नबी आज़ाद, मल्लिकार्जुन खड़गे, एके एंटनी, अहमद पटेल, अंबिका सोनी, सिद्धारमैया, ओमान चांडी, तरुण गोगोई, आनंद शर्मा, हरीश रावत, कुमारी शैलजा, मुकुल वासनिक, अविनाश पांडे, केसी वेणुगोपाल, दीपक बावरिया, ताम्रध्वज साहू, रघुवीर मीणा, गैखंगम और अशोक गहलोत को जगह दी गई है|

मध्यप्रदेश के दिग्गज नेताओं को भी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कमेटी में जगह नहीं दी है| इससे प्रदेश कांग्रेस में कई तरह के सवाल खड़े हो रहे हैं| खासकर वरिष्ठ नेता और कांग्रेस महासचिव दिग्विजयसिंह को भी गांधी ने कमेटी से बाहर का रास्ता दिखाया है| हालांकि मध्यप्रदेश कांग्रेस का बड़ा चेहरा माने जाने वाले और चुनाव प्रचार प्रभारी ज्योतिरादित्य सिंधिया को राहुल गांधी ने स्पेशल इन्वाइटिस की टीम में शामिल किया है| राहुल गांधी का सिंधिया को इस टीम में शामिल करना, उन्हें खुश रखने के तौर पर देखा जा रहा है| कांग्रेस ने तीन महत्वपूर्ण विधानसभा चुनावों से पहले कमेटी का गठन तो कर लिया है, अब आगामी चुनावों में कांग्रेस की इस वर्किंग कमेटी की असली वर्किंग देखने योग्य होगी|

Share.