website counter widget

कर्नाटक, गोवा के बाद मध्यप्रदेश सरकार गिराने की तैयारी में मोदी!

0

जब से देश में दोबारा मोदी सरकार (Modi government ) बनी है तब से कांग्रेस शासित प्रदेशों में हड़कंप मचा हुआ है। कर्नाटक (Karnataka) में सरकार गिरने की कगार तक पहुँच गई है। किसी भी वक्त राज्य के सीएम कुमारस्वामी (H. D. Kumaraswamy) अपने पद से इस्तीफा दे सकते हैं। कर्नाटक का सियासी नाटक अब गोवा तक पहुंच गया। कर्नाटक में जहां कई विधायक इस्तीफा दे चुके हैं वहीं गोवा में कांग्रेस के कुल 15 विधायकों में से 10 विधायक भारतीय जनता पार्टी(BJP) में शामिल हो गए हैं, जिसके बाद हड़कंप मच गया। इस मामले में सबसे बड़ी बात यह सामने आई कि गोवा में नेता विपक्ष भी बीजेपी में शामिल हो गए हैं। अब ऐसा कहा जा रहा है कि जल्द ही ऐसा ही नाटक मध्यप्रदेश में भी शुरू होने वाला है।

आकाश के बाद अब पटवारी के इलाके में नगर निगम का धावा   
 मध्यप्रदेश में गिरेगी कमलनाथ सरकार!

देश में भाजपा सरकार बनने के बाद से ही मध्यप्रदेश के भाजपा नेताओं ने कहा था कि हम कभी भी प्रदेश में सरकार बना सकते हैं, बस आलाकमान की ओर से इशारा हो जाए। इस बयान के बाद प्रदेश में काफी बवाल मचा, लेकिन धीरे-धीरे मामला शांत हो गया। इसके बाद शुरू हुआ कर्नाटक में नाटक। कांग्रेस अध्यक्ष पद से राहुल गांधी ने इस्तीफा दिया, जिसके बाद कांग्रेस के कई नेता भी पार्टी का साथ छोड़ चुके हैं। वहीँ कर्नाटक में तो विधायकों ने ही इस्तीफा दे दिया, जिससे सरकार गिरने की कगार पर तक पहुंच गई। वहीँ भाजपा ने सरकार बनाने के लिए दावा भी कर दिया है।

VIDEO : राखी सावंत ने बताया वर्ल्ड कप में भारत की हार का कारण

मध्यप्रदेश में तो भाजपा नेता पहले ही सरकार बनाने का दावा कर चुके हैं। ऐसा कहा जा रहा है कि भाजपा, जहां-जहां कांग्रेस की सरकार है वहां अपनी सरकार बनाने की जुगत में है। इसके लिए सबसे पहले छोटे राज्यों पर निशाना साधा जा रहा है, इसीलिए कर्नाटक और गोवा में पहले कांग्रेस के विधायकों ने इस्तीफा दिया। अब इस्तीफे की ये लहर मध्यप्रदेश भी पहुँच चुकी है, जहां अब शुरू हो सकता है कांग्रेस के इस्तीफों का दौर। भाजपा का कथित ‘ऑपरेशन क्लीन स्वीप’ शुरू हो चुका है, कांग्रेस के विधायकों के इस्तीफे उसका ही उदाहरण बताया जा रहा है।

हमें सरकार गिराने की जरूरत नहीं कांग्रेसी काफी हैं : शिवराज

मध्यप्रदेश सरकार गिराने के संबंध में प्रदेश के पूर्ण सीएम शिवराजसिंह पहले ही बोल चुके हैं कि इतना तय है कि सरकार पर खतरा मंडरा रहा है। कांग्रेस में गुटबाजी है। कमलनाथ, ज्योतिरादित्य सिंधिया और दिग्विजय सिंह जैसे नेता आपस में उलझे हैं, उससे साफ है सरकार गिरेगी। ऊपर से सरकार में में बैठे लोग भ्रष्टाचार में लगे हैं। कुप्रशासन, द्वेष और जातिवाद बढ़ रहा है। विकास घुटने टेकने लगा है। जनता देख रही है।

इंदौर पुलिस ने किया सराहनीय कार्य

मध्यप्रदेश में भाजपा के नेताओं के सरकार बनाने के दावे और कांग्रेस में लगी इस्तीफों की झड़ी के बाद एक बात तो साफ़ है कि मोदी सरकार चाहती है कि जिन राज्यों में कांग्रेस सरकार है वहां पर अपनी पकड़ मजबूत कर और भाजपा की सरकार बनाए। जैसे कर्नाटक में भाजपा सरकार बनना लगभग तय हो चूका है वैसे ही अन्य राज्यों में भी हो सकता है। अब देखना यह है कि भाजपा का कथित ‘ऑपरेशन क्लीन स्वीप’ सफल होता है या फिर कांग्रेस अपनी सरकार बचाने में सफल होती है।

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.