कांग्रेसमुक्त भारत का सपना देखने वाली भाजपा पड़ी कमजोर

0

2014 में हुए लोकसभा चुनाव (Lok Sabha elections 2014)  में भाजपा भारी बहुमत के साथ सत्ता में आई थी, इसके बाद 2019 के लोकसभा चुनाव (2019 Lok Sabha Elections) में भी ऐसा ही हाल था।  सत्ता में आने के बाद बीजेपी (BJP free India) ने बड़े-बड़े वादे किए।  कांग्रेस मुक्त भारत (Congress free India) बानाने का राष्ट्र को सपना दिखाया, लेकिन अब हो कुछ और ही रहा है।  भाजपा कांग्रेस मुक्त भारत तो नहीं बना पाई, लेकिन अब धीरे-धीरे मोदी लहर शांत हो रही  है,  जिससे भाजपा मुक्त राज्यों (BJP free India) में तेजी से वृद्धि हो रही  है। अब इस मामले पर कभी बीजेपी की सहयोगी पार्टी रही शिवसेना ने बीजेपी पर निशाना साधा है।

मध्य प्रदेश के बीना में निकली 28 BJP सांसदों की शव यात्रा!

हार की जिम्मेदार बीजेपी !

झारखंड में बीजेपी को हार (BJP free India) का सामना करना पड़ा।  81 विधानसभा सीटों में से बीजेपी केवल 25 सीटों पर कब्जा कर पाई। झारखंड में बीजेपी की हार पर शिवसेना ने तंज कसा है। शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में बीजेपी पर निशाना  साधा है। सामना में  लिखा है कि भाजपा के हाथ से पहले महाराष्ट्र गया और अब झारखंड भी निकल गया। प्रधानमंत्री मोदी और गृहमंत्री अमित शाह सहित पूरे केंद्रीय मंत्रिमंडल को प्रचार में लगाने के बावजूद भाजपा झारखंड में नहीं । झारखंड मुक्ति मोर्चा के हेमंत सोरेन अब मुख्यमंत्री बनेंगे। झारखंड मुक्ति मोर्चा, कांग्रेस और राष्ट्रीय जनता दल के गठबंधन को बहुमत मिलेगा, ये स्पष्ट हो चुका है। इस गठबंधन में सबसे ज्यादा सीटें झारखंड मुक्ति मोर्चा को मिली हैं। कांग्रेस ने दो अंकों वाला आंकड़ा छू लिया है।  कांग्रेस-राजद के समर्थन से झारखंड मुक्ति मोर्चा की सरकार बनेगी। यह भाजपा के लिए धक्का है।

कैलाश विजयवर्गीय के हाथ बंगाल की कमान, BJP में TMC के मंत्री

भाजपामुक्त राज्य

सामना में आगे लिखा है कि भाजपा (BJP free India) के नेता कांग्रेसमुक्त हिंदुस्तान की घोषणा कर रहे थे, लेकिन अब कई राज्य भाजपामुक्त हो गए हैं। मध्य प्रदेश और राजस्थान जैसे बड़े राज्य भाजपा पहले ही गंवा चुकी है। इसके अलवा महाराष्ट्र में कांग्रेस-राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी की शिवसेना के नेतृत्व में सरकार बनी।  2018 में भाजपा 75 प्रतिशत प्रदेशों में सत्तासीन थी, लेकिन अब 30-35 प्रतिशत प्रदेशों में भाजपा की सत्ता है। भाजपा की घुड़दौड़ कई राज्यों में कमजोर पड़ती गई है। पूर्वोत्तर राज्यों में त्रिपुरा और मिजोरम तक भाजपा के झंडे लहराए लेकिन आज ऐसी स्थिति है कि अगर त्रिपुरा में चुनाव कराए जाएं तो जनता भाजपा की सत्ता उखाड़ फेंकेगी।

NRC को नही मान रहे BJP के नेता

              – Ranjita Pathare 

Share.