किसान आंदोलन से आम आदमी परेशान

0

मध्यप्रदेश सहित पूरे देश में इन दिनों किसान आंदोलन अपने खुमार पर है| राष्ट्रीय किसान महासंघ की अगुवाई में देश के सात राज्यों में लगभग 130 किसान संगठन इस आंदोलन में सक्रिय हैं| इस आंदोलन के कारण सब्जियों के भाव बढ़ गए हैं |

गौरतलब है कि किसानों द्वारा एक जून से लेकर दस जून तक मूल्य वृद्धि,कर्जमाफी तथा स्वामीनाथन कमेटी की सिफारिश लागू करने सहित कई मांगों को लेकर देशव्यापी आंदोलन किया जा रहा है| दूध और सब्जी शहरों में सप्लाई नहीं की जा रही है| अधिकांश लोगों ने तो कुछ दिन पहले ही सब्जियों का भंडारण कर लिया था परन्तु फिर भी सप्लाई की कमी को देखते हुए सब्जियों के दाम 20 से 30 प्रतिशत तक बढ़ गए हैं| किसानों द्वारा सब्जी सड़कों पर फेंकी जा रही है तथा दूध भी बहाया जा रहा है|  कहीं-कहीं इस आंदोलन में नरमी देखी जा रही है| अभी तक हिंसा की कोई खबर नहीं आई है|

मध्यप्रदेश के कृषिमंत्री बालकृष्ण पाटीदार ने कहा कि कोई भी किसान इस हड़ताल में भाग नहीं ले रहा है| किसान मुख्यमंत्री की लॉन्च की हुई स्कीमों से खुश हैं| उन्हें भरोसा है कि राज्य और केंद्र सरकार उनकी समस्याओं का समाधान निकालेगी| एक बात जगजाहिर है कि व्यापारियों और सरकार की मनमानी से किसान परेशान हैं| लहसुन-प्याज बेचने पर लागत भी नहीं निकल रही है तथा टमाटर दो रुपए प्रति किलो किसानों को बेचना पड़ रहा है|

Share.