कांग्रेस के कारण लाया गया ‘नागरिकता संशोधन बिल’

0

आज लोकसभा में ‘नागरिकता संशोधन बिल’ (Citizenship Amendment Bill ‘ ) को पेश किया गया। यह बिल काफी हंगामा के बाद पेश किया गया। इसके लिए जो वोटिंग हुई उसमें 293 हां के पक्ष में और 82 विरोध में वोट पड़े। लोकसभा (Lok Sabha Live) में इस दौरान कुल 375 सांसदों ने वोट किया। बीजेपी ने बताया कि इस बिल को लाने कि क्या आवश्यकता पड़ी और साथ ही इसके लिए कांग्रेस को भी जिम्मेदार ठहराया। इस बिल के लागू होने के बाद भारत में 31 दिसंबर 2014 से पहले आए सभी लोगों को नागरिकता देने का प्रावधान बनाया जा जाएगा। इसके पहले हुए असम समझौते में 1971 से पहले आए लोगों को नागरिकता देने का प्रावधान है।

सरकार के नए नियम से सरकारी, गैर सरकारी सभी की बढ़ जाएगी सैलरी

बिल को लाने के लिए कांग्रेस जिम्मेदार

बिल पेश करने से पहले गृहमंत्री अमित शाह (Home Minister Amit Shah ) ने कहा कि हमारे देश की 106 किमी. सीमा अफगानिस्तान से सटी है, ऐसे में उसे शामिल करना जरूरी था। मैं इसी देश का हूं और भूगोल जानत हूं। शायद ये लोग PoK को भारत का हिस्सा नहीं मानते हैं। इस बिल की जरूरत कांग्रेस की वजह से पड़ी। धर्म के आधार पर कांग्रेस ने देश का विभाजन किया। इस बिल की जरूरत नहीं पड़ती अगर कांग्रेस ऐसा नहीं करती, कांग्रेस ने धर्म के आधार पर देश को बांटा। समानता के आधिकार के कानून दुनियाभर में है (Lok Sabha Live)। क्या आप वहां जाकर नागरिकता ले सकते हैं? वो ग्रीन कार्ड देते हैं, निवेश करने वालों, रिसर्च और डिवेलपमेंट करने वालों को देते हैं। क्षेत्रीय विभाजन के आधार पर वहां भी नागरिकता दी जाती है। यह बिल 0.001 प्रतिशत भी अल्पसंख्यकों के खिलाफ नहीं है।

तलत अज़ीज़ की शानदार गायिकी, बेहतरीन साउंड और महा खराब संचालन

मुल्क को इस कानून से बचा ले लीजिए

अमित शाह (Amit Shah ) के बिल पेश करने से पहले असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi ) ने कहा कि सेक्युलिरिज्म इस मुल्क का हिस्सा है, ये एक्ट फंडामेंटल राइट का उल्लंघन करता है। ये बिल लाकर सुप्रीम कोर्ट के आदेश का उल्लंघन हो रहा है। इस मुल्क को इस कानून से बचा ले लीजिए, गृह मंत्री को बचा लीजिए। वहीं समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव का कहना है कि उनकी पार्टी नागरिकता बिल का विरोध करेगी।

रेप में नाकाम हुआ तो लगाई आग, 80 फीसदी जली युवती

         – Ranjita Pathare 

Share.