Citizenship Amendment Bill 2019 Protest : बिल के विरोध में इस IPS ने दिया इस्तीफा

0

मुंबई : नागरिकता संशोधन बिल 2019 (Citizenship Amendment Bill 2019) लोकसभा और राज्यसभा में पास (Citizenship Amendment Bill 2019 passed in Rajya Sabha) हो गया है। अब इसे राष्ट्रपति (Ram Nath Kovind) की सहमति लेने के लिए भेजा जाएगा, जिसके बाद इसका कानून बना दिया जाएगा। बिल पास होने के बाद शुरू हो चुका है प्रदर्शन का दौर। असम, गुवाहाटी में तो ये प्रदर्शन उच्च स्तर पर पहुँच गया है। अब इस बिल के विरोध में एक आईपीएस अफसर ने भी अपने पद से इस्तीफा दे दिया है।  मुंबई में विशेष आईजीपी के रूप में तैनात अब्दुर्रहमान (IPS Abdur Rahman) का कहना है कि उन्होंने नागरिकता संशोधन विधेयक (CAB protest) के विरोध में इस्तीफा देने का फैसला किया है। ये बिल मानवता के खिलाफ है और ऐसे में वह इस सिस्टम का हिस्सा नहीं बनना चाहते हैं।

Citizenship Amendment Bill 2019 : राज्यसभा में भी बिल हुआ पास

साम्प्रदायिक और असंवैधानिक बिल

मुंबई में विशेष आईजीपी के रूप में तैनात अब्दुर्रहमान (IPS Abdur Rahman) का कहना है कि यह विधेयक साम्प्रदायिक और असंवैधानिक है। उन्होने आगे बताया कि वे गुरुवार को  अपने दफ्तर नहीं जाएँगे। यह बिल भारत के धार्मिक बहुलवाद के खिलाफ है। देश के सभी न्याय प्रिय लोगों से मेरा अनुरोध है कि वे लोकतांत्रिक तरीके से इसका विरोध करें। उन्होने ट्वीट करके भी इस बिल का विरोध किया और लिखा कि यह बिल संविधान की मूल विशेषताओं के खिलाफ है और वह इसकी निंदा करते हैं। सविनय अवज्ञा के तहत मैंने गुरुवार से ऑफिस न जाने का निर्णय किया है। इस तरह मैं सेवा त्याग रहा हूं।

Citizenship Amendment Bill आधी रात को लोकसभा में पास, अब राज्यसभा का रुख

अब्दुर्रहमान (IPS Abdur Rahman) का मानना है कि संसद के दोनों सदनों में बिल पास करवाने के लिए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने गलत तथ्य, तर्क और भ्रामक सूचनाएं दी हैं। इतिहास को तोड़-मरोड़कर पेश किया है। इस बिल के पीछे की सोच मुस्लिमों में डर फैलाना और एक बार फिर देश का विभाजन करना है। यह विधेयक अनुच्छेद 14 का उल्लंघन करता है। अब्दुर्रहमान के साथ अन्य कई लोग भी इस बिल का विरोध कर रहे हैं।

Citizenship Amendment Bill 2019 : नागरिकता संशोधन बिल को मंजूरी  

 

           – Ranjita Pathare 

Share.