website counter widget

बलात्कार के बाद नरबलि का शिकार मासूम!

0

देश में मासूम बच्चे कहीं भी सुरक्षित नहीं है। पहले मासूमों के साथ बलात्कार के कई मामले सामने आये और अब उनकी बलि के मामले सामने आने से हड़कपं मच गया है। सरकार जहाँ न्यू इंडिया ( New india ) बनाने की बात पर जोर दे रही है, डिजिटल हो रही है, विकास की बात कर रही है, वहीँ बच्चों को लेकर अभी भी लापरवाही (Two Child Dead Body Found Without Head In Latehar ) बरत रही है।

मासूमों के साथ दुष्कर्म के मामलों में सालों से फांसी की सज़ा सुनाने के बाद भी किसी को भी फांसी पर तो लटकाया नहीं और अब नरबलि जैसे मामले भी सामने आने से सरकार पर और सवाल उठाए जा रहे हैं। नरबलि का नया मामला झारखंड से सामने आया है , जहाँ  खुद को तांत्रिक बताने वाले एक व्यक्ति ने दो मासूमों की बलि दे दी और उनका सिर (Two Child Dead Body Found Without Head In Latehar ) को लेकर फरार हो गया, जिसके बाद बच्चों की सुरक्षा पर फिर सवाल उठाए जाने लगे हैं।v

कांग्रेस के दिवालिया होने के कारण साथ छोड़ रहे विधायक

 बच्चों की बलि

जानकारी के अनुसार, लातेहार (Two Child Dead Body Found Without Head In Latehar ) जिले के मनिका थाना क्षेत्र स्थित सेमरहत गांव में हुई घटना ने सभी को सोचने पर मजबूर कर दिया कि बच्चों को कैसे सुरक्षित रखा जाए। सेमरहत गांव में सुनील उरांव के घर के पास स्थित बालू के ढेर में बच्चे का पैर देखा गया। इसके बाद ग्रामीणों ने पुलिस को जानकारी दी, तो जांच में सामने आया कि गांव के दो बच्चे वीरेंद्र उरांव के बेटे निर्मल उरांव (8 वर्ष) एवं बिहारी उरांव की बेटी शीला कुमारी (6 वर्ष) का सिर कटा शव मिला। पुलिस ने बालू में दबे बच्चों के शव बाहर निकालकर जांच के लिए भेज दिए।

योगीराज में कैसे हो गई 35 गायों की मौत ?

मृतक बच्चे (Two Child Dead Body Found Without Head In Latehar ) के पिता वीरेंद्र उरांव ने बताया कि सुनील उरांव खुद को तांत्रिक बताता था, उसने ही बच्चों की हत्या की।  सुनील मेरा फोन लेकर गया था, जिसे वापस लाने के लिए मैंने बेटे निर्मल को उसके घर भेजा। निर्मल मोबाइल लेकर नहीं आया तो वह बाइक से सुनील के घर गया, इस पर उसने जवाब दिया कि निर्मल तो मोबाइल लेकर चला गया। इसके बाद सुनील ने मेरी बाइक ली और कही चला गया। जब सुनील के घर हम गए तो वह अंदर से घर बंद कर पूरे घर को पानी से धो रहा था।

इसके बाद हम बच्चों की तलाश करने लगे। सुबह ग्रामीणों ने जब एक बच्चे के शव की बात बालू के ढेर में होने की कही तो पुलिस को सूचना दी, जिसके बाद मामले का खुलासा हुआ। तांत्रिक को गिरफ्तार कर लिया गया है लेकिन सिर नहीं मिले हैं। सुनील उरांव ने अंधविश्वास के फेर में दो बच्चों की बलि दी है और अपने घर के पीछे रखे बालू के ढेर में गाड़ दिया था। फिलहाल तांत्रिक से पूछताछ की जा रही है। उसने अभी तक बच्चों की बलि देने के कारण के बारे में खुलासा नहीं किया है।

सुब्रह्मण्यम स्वामी फिर हुए बीजेपी के ख़िलाफ़

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.