जानिए जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने से अब क्या बदला

0

जम्‍मू कश्‍मीर ( Jammu And Kashmir) से अनुच्छेद 370 खत्म हो गया है,इसके बाद से ही कई लोगों के मन मे यह सवाल उठ रहे होंगे कि इसके खत्म होने के बाद क्या क्या बदलाव आएंगे (Changes After Article 370 Remove From Jammu And Kashmir) । क्या इससे जम्मू-कश्मीर के बाहर रह रहे लोगों के अधिकारों मे भी कोई परिवर्तन आयेगा। आइये जानते हैं जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 (Article 370) हटने के मायने क्या है।

चौथे युद्ध को तैयार भारत और पाकिस्तान

भाजपा सरकार ने जम्मू-कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा छिन लिया है। अब प्रदेश को केंद्र शासित प्रदेशों की सूची मे शामिल कर लिया गया है। सबसे पहले तो हम जानते हैं कि क्या है अनुच्छेद 370 (Changes After Article 370 Remove From Jammu And Kashmir)। 1951 में राज्य को संविधान सभा अलग से बुलाने की अनुमति दी गई। नवंबर 1956 में राज्य के संविधान का कार्य पूरा हुआ। 26 जनवरी 1957 को राज्य में विशेष संविधान लागू कर दिया गया।

Jammu Kashmir Crisis LIVE Updates : पीडीपी सदस्यों को सदन से बाहर निकाला

क्या है अनुच्छेद 370 (What Is Article 370)

अनुच्छेद 370 (Article 370) जम्मू-कश्मीर को विशेष अधिकार देता है। इसके अनुसार, भारतीय संसद जम्मू-कश्मीर के मामले में सिर्फ तीन क्षेत्रों-रक्षा, विदेश मामले और संचार के लिए कानून बना सकती है। इसके अलावा किसी कानून को लागू करवाने के लिए केंद्र सरकार को राज्य सरकार की मंजूरी चाहिए होती है।

अब ये हुआ बदलाव (Changes After Article 370 Remove From Jammu And Kashmir)

अनुच्छेद 370 के हटते ही अब भारतीय संविधान के सारे नियम वहां लागू होने, पहले कश्मीर का अलग संविधान था।

अलग विषयों पर कानून लागू करवाने के लिए केंद्र को राज्य सरकार की सहमति लेनी पड़ती थी।

शहरी भूमि कानून (1976) भी जम्मू-कश्मीर पर लागू नहीं होता था, लेकिन अब राज्य के बाहर का व्यक्ति भी वहां जमीन खरीद सकता है।

भारत के सारे राष्ट्रीय प्रतीक भी कश्मीर के लिए मान्य होंगे, जिंका वहां पर कोई यदि अपमान करता है तो उसे सज़ा दी जाएंगी।

जम्मू-कश्मीर की विधानसभा का कार्यकाल 6 साल होता था, जो अब पाँच साल का होगा।

Union Cabinet Meeting LIVE : क्या हट जाएगी धारा 35 ए और 370?

जम्मू-कश्मीर में महिलाओं पर शरियत कानून लागू होता था, जीसमे भी अब बदलाव होगा।

यदि कोई कश्मीरी महिला पाकिस्तान के किसी व्यक्ति से शादी करती थी, तो उसके पति को भी जम्मू-कश्मीर की नागरिकता मिल जाती थी, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। क्योंकि वहां अब भारत के सारे कानून लागू होंगे ।

जम्मू-कश्मीर का झंडा अलग होता था, लेकिन अब वहां भी तिरंगा झण्डा ही लहराया जाएगा ।

जम्मू-कश्मीर के नागरिकों को मिली दोहरी नागरिकता भी अब खत्म हो जाएगी।

 

Share.