कोयला घोटाले में सीबीआई कोर्ट का फैसला

0

महाराष्ट्र में हुए कोयला घोटाले के मामले में शुक्रवार को सीबीआई की स्पेशल कोर्ट (दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट) ने अपना निर्णय सुनाया| कोर्ट ने गोंडवाना इस्पात लिमिटेड और इसके निदेशक अशोक डागा को दोषी करार दिया| कोर्ट ने कहा कि सुनवाई के दौरान अशोक डागा ने आवंटन के लिए गलत तथ्यों को पेश किया था|

गौरतलब है कि इसके पहले झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा को कोयला ब्लॉक आवंटन में गड़बड़ी के बाद तीन वर्ष की सज़ा सुनाई गई थी| इसके साथ ही कोड़ा के सहयोगी विजय जोशी, पूर्व कोयला सचिव एचसी गुप्ता, झारखंड के तत्कालीन मुख्य सचिव एके बसु को भी 3-3 वर्ष कारावास की सज़ा सुनाई थी| कोर्ट ने कोड़ा और जोशी पर 25-25 लाख का जुर्माना भी लगाया था|

मामले की सुनवाई के दौरान जब प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को भी मामले का दोषी साबित किया जा रहा था तो कोर्ट ने कहा था कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के पास यह मानने की कोई वजह नहीं थी कि तत्कालीन कोयला सचिव एचसी गुप्ता ने उनके समक्ष एक ऐसी कंपनी को मध्यप्रदेश में कोयला ब्लॉक आवंटित करने की सिफारिश की थी, जो उस समय आवंटन के नियमों को पूरा नहीं करती थी|

Share.