केटरर की इतने करोड़ की संपति जब्त

0

रेलवे में हर बार कोई न कोई गड़बड़ी सामने आती ही है| खाने में मिली गड़बड़ी का मसला शांत हुआ ही था कि अब पानी में गड़बड़ियां सामने आई हैं| राजधानी एवं अन्य सुपरफास्ट रेलगाड़ियों में दिए जा रहे पानी की प्रवर्तन निदेशालय जांच में जुटा है|

दरअसल, जांच में सामने आया है कि सुपरफास्ट रेलगाड़ियों में रेल नीर के बजाय सस्ता पानी महंगे दाम पर बेचा जा रहा है| निदेशालय ने गुरुवार को केटरिंग कंपनियों की 17.55 करोड़ रुपए की संपत्ति जब्त की है| इन केटरिंग कंपनियों में मेसर्स आरके एसोसिएट्स तथा होटेलियर्स प्राइवेट लिमिटेड, मेसर्स सत्यम केटरर्स प्राइवेट लिमिटेड तथा पांच अन्य कंपनियां शामिल है|

ये सभी केटरिंग कंपनियां ट्रेन में अन्य ब्रांड के पेयजल बेचती थी और रेल विभाग से ‘नीर जल’ के नाम पर पैसे उगाहते थे| वहीं रेलवे ने यात्रियों के अनुभव को बेहतर बनाने एवं किसी भी तरह की तकलीफ होने पर सहायता के लिए दो एप लॉन्च किए| पहला है ‘रेल मदद’ और दूसरा ‘मेन्यू ऑन रेल’| इनके जरिये यात्री सहायता या फिर शिकायत दर्ज करवा सकते हैं|

Share.