जानिए, एक बार ठीक होने के बाद क्या दोबारा हो सकता है संक्रमण

0

Coronavirus जिसे लोग अब मौत के दूसरे नाम से जान रहे हैं बड़ी तेजी से देश में फ़ैल रहा है। चीन के वुहान (Wuhan) शहर से अस्तित्व में ये अनजान मौत दुनिया में इतना कहर मचा देगी इसका किसी को भी अंदाजा नहीं थी। आज इस वायरस से दुनिया के लगभग सभी देश प्रभावित हैं। शायद कोई ऐसा देश हो जो इस वायरस से छूट गया हो। अब तक यह वायरस 2.5 लाख से ज्यादा लोगों को अपनी चपेट में ले चुका है और तकरीबन 11 हजार लोगों की मौत का कारण बन चुका है। जब से यह वायरस हमारे देश पहुंचा है तभी से इसने तांडव मचाना शुरू कर दिया है। अब देश में इस वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 270 से भी ज्यादा हो गई है और 5 लोग इसकी वजह से काल के गाल में समा चुके हैं।

क्यों है इतना खतरनाक?

इस सवाल के तो वैसे कई जवाब हो सकते हैं लेकिन सबसे प्रमुख कारण यह है कि यह एक अनजान वायरस है। जब दुश्मन अनजान या छिपा हो तो उससे लड़ना बेहद मुश्किल होता है। यही वजह है कि अभी तक इसका इलाज नहीं मिला, दवा नहीं बनी जिससे इतनी भयावह स्थिति निर्मित हो गई। दूसरे कारण की बात करें तो इस वायरस से संक्रमित होने पर इसके लक्षण लगभग 13-14 दिन बाद सामने आते हैं। ऐसे में संक्रमित व्यक्ति कितने लोगों के संपर्क में आया इसका पता नहीं चलता और बाकी लोग भी संक्रमित हो सकते हैं। मतलब यह वायरस इस वजह से तेजी से फैलता है और बेहद खतरनाक साबित होता है।

इससे ठीक होने पर दोबारा संक्रमण हो सकता है?

यह सवाल सभी के जहन में इसलिए आया क्योंकि जयपुर में एक व्यक्ति इस वायरस से संक्रमित था। उसका इलाज किया गया और वह ठीक भी हो गया, रिपोर्ट भी निगेटिव आई। लेकिन इसके ठीक 3 दिन उसकी मौत हो गई। व्यक्ति की मौत के बाद से ही लोगों के ज़हन में ये सवाल आया कि क्या ठीक होने के बाद फिर से इसका संक्रमण मतलब री-इन्फेक्शन (Re-Infection) हो सकता है? और हो सकता है तो क्या फिर से इसे ठीक किया जा सकता है?

क्या कहते हैं विशेषज्ञ?

इस बारे विशेषज्ञ कहते हैं कि यदि कोई व्यक्ति किसी वायरस की चपेट में आ जाए और उसका सफलता से इलाज हो जाए तो फिर उसके शरीर में उस वायरस से लड़ने की क्षमता यानी रोग प्रतिरोधक क्षमता (Immunity) विकसित हो जाती है। मतलब स्वस्थ हुए व्यक्ति का शरीर खुद उस वायरस से लड़ने के लिए पूरी तरह से तैयार हो जाता है। चूंकि ये वायरस साल 2019 के दिसंबर माह यानी 4 माह पहले अस्तित्व में आया इसलिए इसके बारे में कुछ भी साफ़ तौर नहीं कहा जा सकता। इसके बारे में विशेषज्ञ तब तक कुछ नहीं कह सकते जब तक इसके बारे में ठीक से पता नहीं चल जाता। हालांकि विशेषज्ञों ने यह भी कहा है कि यह पहली बार नहीं है जब पूरी दुनिया किसी वायरस की चपेट में आई हो। इससे पहले भी सार्स {SARS (Severe Acute Respiratory Syndrome)} और मार्स (Middle East respiratory syndrome) जैसे वायरस दुनिया में तबाही मचा चुके हैं। इन वायरस के मामलों में एक बार स्वस्थ हो जाने पर दोबारा संक्रमण नहीं हुआ। तो इस बात से यह कहा जा सकता है कि Coronavirus के संक्रमण से एक बार निकल जाने के बाद इसका दोबारा संक्रमण नहीं हो सकता। लेकिन विशेषज्ञों का कहना है कि फिलहाल यह कहना जल्दबाजी होगी। क्योंकि अभी तक इस वायरस के संबंध में कोई पुख्ता जानकारी हासिल नहीं हुई है।

कोरोना वायरस कैसे पहुंचाता है नुकसान?

ये जान लेना भी जरूरी है कि आखिर coronavirus शरीर पर किस तरह हमला करता है। जैसा कि इसके लक्षणों में बताया गया है कि इससे संक्रमित होने पर सांस लेने में तकलीफ होने लगती है और खांसी हो जाती है। अब तक के शोध में यह बात सामने आई है कि यह वायरस सबसे पहले इंसान के गले के आसपास की कोशिकाओं को प्रभावित करता है। इसके बाद सांस की नली और फेफड़ों को। इस वजह से सांस लेने में परेशानी होने लगती है और इसका लक्षण दिखने लगता है। जब वायरस यहां तक पहुंच जाता है तब इसकी संख्या में वृद्धि होने लगती है मतलब यह अपनी संख्या बढ़ाता है। इसके बाद यह वायरस शरीर के दूसरे हिस्सों की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाना शुरू कर देता है। इस वायरस के हमले से व्यक्ति को थकान, सिर दर्द, गले में दर्द या खराश, हल्‍का बुखार महसूस होने लगता है और यह सब तकरीबन 5 से 6 दिन के भीतर नज़र आने लगता है।

इस दवा से ख़त्म होगा Coronavirus!

शरीर कैसे करता है इसका मुकाबला?

यह बात तो समझ आ गई कि किस तरह वायरस का हमला हमारे शरीर पर होता है? अब यह भी जान लीजिए कि हमारा शरीर इस वायरस का किस तरह जवाब देता है। जैसे ही वायरस शरीर पर हमला करता है और संक्रमण के शुरूआती लक्षण दिखते हैं, वैसे ही हमारा शरीर हर हिस्से को संकेत भेजकर इस वायरस से मुकाबला करने के लिए तैयार कर देता है। जैसे ही संकेत मिलता है तब हमारे शरीर में साइटोकाइन नाम का केमिकल जिसे हार्मोन्स कहते हैं वो रिलीज होने लगता है। इसके बाद हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक प्रणाली (Immune System) पूरी ताकत के साथ इस वायरस से लड़ने लगता है। वायरस और हमारे रक्षा तंत्र के बीच चल रही जंग की वजह से ही हमे बुखार और दर्द महसूस होता है। इस वायरस के मामले में सूखी खांसी आने लगती है। इस वायरस से मुकाबला करते हुए हमारे फेफड़ों की जो कोशिकाएं मृत हो जाती हैं उन्हें हमारा शरीर खांसी में बलगम के माध्यम से बाहर निकाल देता है।

कब कमजोर होता है हमारा रक्षा तंत्र

वैसे हमारे शरीर का रक्षा तंत्र स्वतः ही कई बीमारियों, जीवाणुओं और विषाणुओं का सामना कर लेता है, लेकिन किंग्स कॉलेज लंदन की डॉक्टर नैटली मैक्डरमॉट बताती हैं कि गंभीर संक्रमण के मामलों में हमारा रक्षा तंत्र कमजोर पड़ जाता है इसका संतुलन बिगड़ जाता है। इस परिस्थित में शरीर में सूजन दिखने लगती है और इस वायरस के मामले में फेफड़ों में भी सूजन आ जाती है। फेफड़ों की सूजन को निमोनिया कहा जाता हैं। जब यह वायरस आपके फेफड़ों में पहुंच जाता है तो आपके फेफड़ों में छोटे-छोटे एयरसैक बना देता है। डॉ. नैटली मैक्डरमॉट का कहना है कि इसी वजह से सांस लेने में तकलीफ होती है और यहां से ही हमारा शरीर इस वायरस से लड़ाई हार जाता है। ये इस वायरस से संक्रमित व्यक्ति की सबसे गंभीर स्थिति होती है और इसी स्थिति में फेफड़ों का फेल होना, सेप्टिक शॉक, ऑर्गन फेल होना और मौत का जोखिम होता है। हालांकि, लैंसेट मेडिकल जर्नल में इस वायरस का एक अध्ययन प्रकाशित हुआ। इसमें वुहान के जिनयिनतान अस्पताल में कोरोना वायरस के कारण हुई दो मौतों में मरीजों के फेफड़े स्वस्थ पाए गए।

Aamir Khan जिस एक्टर का रोल कर रहें है उनको हुआ CoronaVirus, हालत गंभीर

वैक्‍सीन बनाने में इस तरह मिलेगी मदद

गौरतलब है कि ऑस्ट्रेलिया के विशेषज्ञों ने दावा किया है कि उन्होंने यह पता लगाया है कि आखिर व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता कैसे कार्य करती है। इस पर इसलिए रिसर्च की गई तक उन कोशिकाओं के बारे में पता लगाया जा सकते जो इस वायरस से लड़ने में सक्षम है। इसका पता लगने के बाद इस वायरस की वैक्सीन तैयार करने में काफी मदद मिलेगी। मेलबर्न के पीटर डोहर्टी इंस्टीट्यूट फॉर इंफेक्शन एंड इम्यूनिटी के शोधकर्ता प्रोफेसर कैथरीन केडजिएर्स्का का कहना है कि इस वायरस के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं, हालांकि कई लोग ठीक भी हो रहे हैं। इस अध्ययन में वैज्ञानिकों ने 4 तरह की प्रतिरक्षा कोशिकाओं की पहचान की है को इस घातक वायरस से लड़ने में सक्षम है।

Coronavirus की दहशत के बीच Anand Mahindra ने साझा किया Tik Tok Video

Prabhat Jain

Share.