website counter widget

Burari Death Case : एक साल बाद बुराड़ीकांड की यह सच्चाई आई सामने

0

बुराड़ीकांड (Burari Death Case) , जिसका नाम सुनकर आज भी 11 लोगों की आत्महत्या की यादें जहन में ताजा हो जाती है। जिसने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया था अब उस मामले में एक नया खुलासा हुआ है। जुलाई के महीने में दिल्ली के बुराड़ी के संत नगर इलाके में एक ही परिवार के 11 लोगों की सामूहिक मौत के बाद हड़कंप मच गया था। इसके बाद से ही मामले पर कई सवाल भी किए जा रहे थे। अब इस मामले में घर से मिले 13 रजिस्टरों को लेकर एक साल बाद हैंड राइटिंग एक्सपर्ट ने बड़ा खुलासा किया है।

Gurugram में फिर बुराड़ी जैसा कांड, परिवार के सभी लोगों के मिले शव

2 बच्चों ने लिखे थे 13 रजिस्टर

घटना के एक साल बाद बाद हैंड राइटिंग एक्सपर्ट (Hand Writing Expert) ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि 11 लोगों की सामूहिक आत्महत्या मामले में मौके से जो रजिस्टर प्राप्त हुए थे, वह चूड़ावत परिवार ने ही लिखे थे। परिवार के दो बच्चे इन रजिस्टरों को लिखते थे। यह भी कहा गया है कि ललित अपनी बातें बोलकर प्रियंका से रजिस्टर में लिखवाता था। रजिस्टरों में पूजा-पाठ और आस्था से संबंधित कुछ निर्देश लिखे हुए थे। इन रजिस्टरों को देखकर ही इस बात के संकेत मिले थे कि परिवार के लोगों ने किसी अंधविश्वास के चक्कर में अपनी जान गंवाई है।

फिर बुराड़ी हत्याकांड : वापस आएगी आत्मा!

दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि मौके से करीब 13 रजिस्टर मिले थे। अब हैंड राइटिंग एक्सपर्ट ने खुलासा किया है कि मौके पर मिले रजिस्टर में लिखी गई बातें परिजनों की हैं। इस मामले में चूड़ावत परिवार के लोगों के मोबाइलों की रिपोर्ट का इंतजार कर रही है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट और साइक्लोजिकल अटॉप्सी की रिपोर्ट पहले ही आ चुकी थी।

बुराड़ी कांड  :  नहीं की थी आत्महत्या, सीबीआई को पता चली यह बात

मामले में 11 लोगों ने अंधविश्वास में पड़कर आत्महत्या की थी। मरने वालों में नारायण देवी (77), उनकी बेटी प्रतिभा (57) और दो बेटे भावनेश (50) और ललित भाटिया (45) के रूप में हुई है। भावनेश की पत्नी सविता (48) और उनके तीन बच्चे मीनू (23), निधि (25) और ध्रुव (15), ललित भाटिया की पत्नी टीना (42) और उनका 15 वर्ष का बेटा शिवम , प्रतिभा की बेटी प्रियंका (33) शमील थे।

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.