कर्मचारियों को वेतन देने के लिए BSNL के पास नहीं है फंड

0

देश की सरकारी टेलीकॉम कम्पनी भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) कंगाल हो गई है। उसके पास अपने कर्मचारियों को वेतन देने के लिए भी फंड नहीं बचा है। इसके बाद अब बीएसएनएल (Bharat Sanchar Nigam Limited) ने सरकार से तत्काल फंड की सुविधा मांगी है। कंपनी ने जून के पहले 850 करोड़ रुपए वेतन देने के साथ अन्य खर्चों के लिए भी भुगतान करने में अक्षमता जताई है।

बीएसएनएल के पास नहीं है फंड

जानकरी के अनुसार, कंपनी (BSNL) के पास लगभग 13,000 करोड़ रुपए आउटस्टैंडिंग लायबिलिटी है, जिसके कारण उसे परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। वित्तीय संकट से जूझ रही कम्पनी के कॉर्पोरेट बजट के सीनियर जनरल मैनेजर पूरन चंद्रा (Puran Chandra)  ने टेलीकॉम मंत्रालय के संयुक्त सचिव को पत्र लिखा। उन्होंने लिखा कि मासिक राजस्व और खर्चों के बीच का अंतर एक ऐसे स्तर पर पहुंच गया है ,जहां बीएसएनएल (BSNL) के संचालन को जारी रखना बिना पर्याप्त इक्विटी के असंभव होगा। पत्र में सरकार से कंपनी के भाग्य पर एक्शन लेने और उसके अगली कार्रवाई के निर्देश देने का अनुरोध किया था।

बीएसएनएल के चेयरमैन ने कुछ महीने पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) को एक प्रेजेंटेशन भी दिया था, लेकिन कंपनी कैसे बचेगी, इस पर कोई अंतिम निर्णय नहीं लिया गया। वहीँ कर्मचारियों तक भी यह खबर पहुँच गई है कि उन्हें इस महीने का वेतन नहीं मिलेगा। इसके पहले कंपनी अपने वित्तीय संकट के कारण लगभग 1.76 लाख कर्मचारियों को फरवरी के वेतन का भुगतान करने में विफल रही थी।

कोटक इंस्टीट्यूशनल इक्विटीज ( Kotak Institutional Equities ) की एक रिपोर्ट के मुताबिक़ दिसंबर 2018 के अंत में बीएसएनएल का ऑपरेशन लॉस 90,000 करोड़ रुपए से अधिक था। यह भी कहा जा रहा है कि जब से मुकेश अंबानी के स्वामित्व वाली रिलायंस जियो के ऑफर्स मार्केट ने आये हैं तब से टेलीकॉम सेक्टर में कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ रहा है। फ्री वॉइस कॉल और एसएमएस के साथ दूरसंचार क्षेत्र में Jio के प्रवेश के बाद कई कंपनियों को आर्थिक संकट का सामना करना पड़ रहा है।

Share.