महाराष्ट्र में फिर बीजेपी-शिवसेना की सरकार!

0

महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव (Maharashtra Assembly Elections ) के बाद बीजेपी को उस वक्त बड़ा झटका लगा था जब शिवसेना बगावत पर उतर आई थी। इसके बाद महाराष्ट्र की राजनीति में सत्ता का संग्राम चला और शिवसेना ने बीजेपी का साथ छोडकर एनसीपी और कांग्रेस के साथ  गठबंधन कर नई सकरार बना ली, लेकिन अब फिर से बीजेपी और शिवसेना एक साथ आने वाली है। फिर से महाराष्ट्र में बीजेपी और शिवसेना की सरकार बनने वाली है।

2019 की 10 घटनाएं जिनसे बदली देश की राजनीति

महाराष्ट्र की राजनीति में भारी उठापटक के बाद 28 नवंबर को शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी। देवेंद्र फडणवीस को शपथ लेने के 3 दिनों के अंदर ही मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ा था। वहीं अभी तक  उम मुख्यमंत्री का नाम सामने नहीं आ पाया है। ऐसी चर्चा कि कि उम मुख्यमंत्री पद के लिए कांग्रेस और एनसीपी में जंग चल रही है। अब राज्यसभा में बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी (Subramanian Swamy) ने कहा है कि बीजेपी-शिवसेना फिर से एक साथ आ सकती है। इसके साथ ही उन्होने दोनों दलों को सरकार बनाने का नया फॉर्मूला भी दिया।

CAB Protest : बिल का विरोध, ट्रेन-उड़ानें रद्द जानिए कैसे हैं पूर्वोत्तर के हालत

सुब्रमण्यम स्वामी ने ट्वीट में लिखा कि ये अच्छी बात है कि शिवसेना ने अपने हिंदुत्व विचारधारा को पीछे नहीं छोड़ा है। नागरिकता संशोधन बिल के खिलाफ शिवसेना ने वोट नहीं किया। ये समय है कि बीजेपी और शिवसेना फिर से बातचीत शुरू करे। वो चाहे तो सीएम का पोस्ट ढाई साल तक के लिए रख सकते हैं। सुब्रमण्यम स्वामी ने अमित शाह के बयान के बाद महाराष्ट्र में सरकार बनाने का नया फॉर्मूला दिया। राज्यसभा में शिवसेना के सांसद वोटिंग से ठीक पहले वॉकआउट कर दिया था। उन्होने न ही पक्ष में वोट किया और न ही विपक्ष में। वहीं सदन में शिवसेना पर तंज़ कसते हुए गृहमंत्री अमित शाह ने कहा था कि  सत्ता के लिए लोग कैसे कैसे रंग बदलते हैं। मान्यवर लोकसभा में शिवसेना ने इस बिल का समर्थन किया था, मैं सिर्फ इतना ही जानता चाहता हूं, महाराष्ट्र की जनता भी जानना चाहती है कि एक रात में ऐसा क्या हुआ कि आज शिवसेना ने अपना स्टैंड बदल लिया।

Hyderabad Encounter पर सुप्रीम कोर्ट की सख्त कार्रवाई

     – Ranjita Pathare

Share.